'शादीशुदा महिला ने अज्ञात युवक से बनाए शारीरिक संबंध'

  • 'शादीशुदा महिला ने अज्ञात युवक से बनाए शारीरिक संबंध'
You Are HereNational
Wednesday, March 12, 2014-5:15 PM

नई दिल्ली: दिल्ली की एक अदालत ने एक व्यक्ति को एक विवाहित महिला से बलात्कार के आरोप से बरी कर दिया। इस महिला ने आरोप लगाया था कि इस व्यक्ति ने शादी का झूठा वादा करके उससे शारीरिक संबंध बनाए थे। अदालत ने कहा कि अगर यह व्यक्ति चाहता तो भी इस महिला से शादी नहीं कर सकता था क्योंकि वह पहले से ही शादीशुदा थी।

अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश निवेदिता अनिल शर्मा ने उत्तम नगर के रहने वाले व्यक्ति को बरी करते हुए कहा कि प्राथमिकी करीब तीन साल की देरी से दर्ज कराई गई और 23 वर्षीय महिला या दिल्ली पुलिस ने इस देरी के बारे में कोई संतोषजनक स्पष्टीकरण नहीं दिया। अदालत ने कहा कि यह स्पष्ट नहीं होता कि महिला ने शादी के झूठे वादे और बलात्कार के आरोप कैसे लगाए गए जबकि वह पहले से ही शादीशुदा थी और किसी अन्य पुरूष से शादी नहीं कर सकती थी।

अदालत ने कहा कि यह स्पष्ट लगता है कि महिला ने अपने पति के साथ शादी के बंधन के बावजूद आरोपी के साथ खुद ही शारीरिक संबंध बनाए। अदालत ने कहा कि ऐसी स्थिति में अगर आरोपी चाहता तो भी इस महिला से शादी नहीं कर सकता था क्योंकि वह पहले से शादीशुदा होने के कारण उससे शादी करने में सक्षम नहीं थी। अभियोजन पक्ष के अनुसार, महिला ने दिसंबर 2011 में इस व्यक्ति के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज कराकर आरोप लगाया था कि बीते तीन वर्ष में उसने उसका बार बार बलात्कार किया।

 


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You