जेटली, सुषमा में चुनावों से पहले छिड़ी जंग

  • जेटली, सुषमा में चुनावों से पहले छिड़ी जंग
You Are HereNational
Wednesday, March 19, 2014-10:43 AM

जालंधर: देश में लोकसभा चुनावों के पहले चरण के चुनावों के लिए कुछ सप्ताह ही बाकी हैं। ऐसे में सत्ता में आने के लिए ख्वाब संजा रही भाजपा के भीतर कलह तेज होती जा रही है। भाजपा में कलह समय-समय पर सामने आती रही लेकिन चुनावों से ठीक पहले सीटों तथा सहयोगी दलों को साथ मिलाने को लेकर दोनों सदनों के विपक्षी नेताओं सुषमा स्वराज तथा अरुण जेटली के बीच वाक्युद्ध तेज हो गया है।

सुषमा स्वराज ने अवैध खनन मामले में विवादास्पद रैड्डी बंधुओं के बारे में ट्विटर पर टिप्पणी कर एतराज जताया व श्रीरामुलु की बी.एस.आर. कांग्रेस दल को शामिल करवाने को लेकर रोष जताया। उन्होंने कहा था कि बार-बार एतराज जताने पर इस प्रकार के कदम उठाए जा रहे हैं। बाद में पार्टी की संसदीय बोर्ड की बैठक में भी स्वराज ने राष्ट्रीय अध्यक्ष राजनाथ सिंह के सामने यह मामला उठाया जिसमें उन्होंने बिना राय व सलाह के राजनीतिक दलों को पार्टी का सहयोगी बनाने पर सवाल उठाए थे।

लोकसभा में विपक्ष की नेता सुषमा स्वराज द्वारा यह खुलासा करने पर कि उनके विरोध के बावजूद खनन घोटाले से जुड़े रैड्डी बंधुओं के करीबी बी. श्रीरामुलु को पार्टी में शामिल करके बेल्लारी से उम्मीदवार बनाया गया, पर राज्यसभा में नेता प्रतिपक्ष अरुण जेटली ने अपने ब्लॉग के माध्यम से इसका जवाब दिया। जेटली बोले कि, ‘‘ऐसे अपेक्षाकृत मामूली मुद्दों को भाजपा के अभी के राजनीतिक एजैंडे पर हावी नहीं होने देना चाहिए।’’

जेटली ने दावा किया कि आज देश का मूड नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में भाजपा की सरकार स्थापित करने का है। आज से लेकर मतदान की तिथि तक भाजपा के सभी नेताओं और कार्यकत्र्ताओं को देशभर में भाजपा के लिए दो प्रतिशत अतिरिक्त वोट बढ़ाने के लक्ष्य के लिए काम करना चाहिए।

भाजपा नेता ने ब्लॉग में सुषमा या उनके बयान का कोई जिक्र किए बिना कहा कि किसे उम्मीदवार बनाया गया है या किसे नहीं बनाया गया है, जैसे अपेक्षाकृत मामूली मुद्दों को भाजपा के राजनीतिक एजैंडे पर हावी होने की अनुमति नहीं होनी चाहिए। ट्विटर व ब्लॉग पर जेतली व सुषमा में इस विवाद को लेकर भाजपा के आला नेता खामोश हैं लेकिन संगठन में दोनों नेताओं को पार्टी के किसी भी मसले पर टिप्पणी करने से बचने को कहा जा रहा है। वैसे सुषमा के करीबी अनंत कुमार व कर्नाटक यूनिट ने दावा किया है कि श्रीरामुलु के आने से वोट बैंक बढ़ेगा।
 


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You