<

छत्तीसगढ़ : टिकट वितरण के बाद कांग्रेस में इस्तीफे का दौर

  • छत्तीसगढ़ : टिकट वितरण के बाद कांग्रेस में इस्तीफे का दौर
You Are HereNational
Thursday, March 20, 2014-9:35 AM

रायपुर: लोकसभा चुनाव के लिए टिकट वितरण की प्रक्रिया पूर्ण होने के बाद विरोध का दौर शुरू हो गया है। महासमुंद से अजीत जोगी को टिकिट दिए जाने से नाराज पिछड़ा वर्ग प्रकोष्ठ के अध्यक्ष मोतीलाल साहू ने समर्थकों सहित अपना इस्तीफा सौंप दिया है। वहीं अकलतरा के पूर्व विधायक सौरभ सिंह ने भी अपना इस्तीफा प्रदेशाध्यक्ष भूपेश बघेल को भेज दिया है। छत्तीसगढ़ में होने वाले लोकसभा चुनाव को लेकर कांग्रेस ने मंगलवार की शाम तीसरी सूची जारी कर सभी ग्यारह सीटों पर प्रत्याशियों की घोषणा कर दी। प्रत्याशियों की घोषणा के साथ आलाकमान के फैसले को लेकर नाराजगी का दौर शुरू हो गया और उपेक्षा के आरोप भी लगाए जाने लगे हैं।

25 मई को झीरमघाटी में हुए नक्सली हमले में गंभीर रूप से घायल तथा कांग्रेस पिछड़ा वर्ग प्रकोष्ठ के अध्यक्ष मोतीलाल साहू ने महासमुंद से टिकट के लिए दावेदारी की थी। मगर मंगलवार को जारी तीसरी सूची में महासमुंद के लिए पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी को प्रत्याशी घोषित कर दिया गया। इससे साहू नाराज हो गए, उन्होंने कांग्रेस पदाधिकारियों को उपेक्षा का आरोप लगाया और कहा कि जोड़ तोड़ की राजनीति करने वाले अजीत जोगी ने राजनीति से भी संन्यास लेने की घोषणा की थी मगर उन्हें महासमुंद से प्रत्याशी बना दिया गया। वे लंबे समय से कांग्रेस से जुड़कर सक्रिय सदस्य के रूप में काम कर रहे हैं मगर उनकी उपेक्षा कर दी गई। मोतीलाल साहू बुधवार को प्रदेश अध्यक्ष भूपेश बघेल को अपना इस्तीफा पत्र के माध्यम से भेज दिया।

इसी तरह अकलतरा से बहुजन समाज पार्टी के विधायक रहे सौरभ सिंह विधानसभा चुनाव 2013 के दौरान कांग्रेस में प्रवेश किया था। उन्होंने भी पीसीसी अध्यक्ष भूपेश बघेल को अपना इस्तीफा भेज दिया था। सौरभ सिंह ने अपने इस्तीफा का कारण व्यक्तिगत होना बताया है मगर यह माना जा रहा है कि लोकसभा चुनाव में उन्हें किसी तरह का महत्व नहीं दिए जाने से वे नाराज थे। विधानसभा चुनाव के दौरान उन्हें आशा थी कि कांग्रेस उन्हें अकलतरा से टिकट देगी मगर ऐसा नहीं हुआ और उनके स्थान पर चुन्नी लाल साहू को टिकट दिया गया जो जीतकर विधायक बन गए। इसके बाद यह संभावना जाताई जा रही थी कि लोस चुनाव में उनका बेहतर उपयोग किया जाएगा मगर ऐसा भी नहीं हुआ।

इस बारे में मीडिया विभाग के अध्यक्ष शैलेश नीतिन त्रिवेदी का कहना है कि सौरभ सिंह और मोतीलाल साहू द्वारा प्रदेशाध्यक्ष भूपेश बघेल को इस्तीफा भेजने की जानकारी हुई है, मगर उन्हें अभी इस्तीफा नहीं मिला है। दोनों नेताओं ने किसी कारण को लेकर अपनी नाराजगी जताने के लिए इस तरह इस्तीफा भेजा है तो उन्हें मनाने का प्रयास किया जाएगा।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You