<

CAG की रिपोर्ट, करोड़ों के कर्ज तले डूबा जम्मू-कश्मीर

  • CAG की रिपोर्ट, करोड़ों के कर्ज तले डूबा जम्मू-कश्मीर
You Are HereNational
Thursday, March 20, 2014-5:28 PM

जम्मू: नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक (कैग) ने कहा है कि जम्मू-कश्मीर सरकार का कर्ज 2012-13 में बढ़ कर 40,265 करोड़ रुपए हो गया है। कैग ने यह भी कहा कि राज्य के हर व्यक्ति पर 32,000 रुपए का कर्ज है। कैग ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि राज्य की वित्तीय देनदारी उसके सकल राज्य घरेलू उत्पाद के करीब 53 प्रतिशत तक पहुंच गई है।

नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक की राज्य की वित्तीय स्थिति पर 31 मार्च, 2013 को समाप्त वर्ष की रिपोर्ट में कहा गया है कि सरकार की कुल वित्तीय देनदारी 31 मार्च, 2011 को जहां 31,272 करोड़ रुपए थी, वहीं वह 31 मार्च, 2012 में बढ़ कर 36,267 करोड़ रुपए तथा 31 मार्च, 2013 को बढ़ कर 40,265 करोड़ रुपए हो गई है।

पिछले बजट सत्र में राज्य विधानसभा में पेश रिपोर्ट में कहा गया है कि राज्य का सार्वजनिक ऋण तथा अन्य देनदारी के अनुसार राज्य के प्रत्येक व्यक्ति पर 32,000 रुपए की देनदारी है। रिपोर्ट में कहा गया है कि साल-दर-साल प्रति व्यक्ति देनदारी बढ़ रही है। इसका मतलब है कि राज्य तथा जनता पर ऋण का बोझ निरंतर बढ़ रहा है। इसमें कहा गया है कि 2012-13 के अंत में राज्य सरकार की कुल देनदारी उसके राजस्व प्राप्ति का 1.54 प्रतिशत थी।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You