गुजरात में भाजपा खतरे मोल लेने से बची, भरोसेमंदों पर लगाया दांव

  • गुजरात में भाजपा खतरे मोल लेने से बची, भरोसेमंदों पर लगाया दांव
You Are HereNational
Thursday, March 20, 2014-4:35 PM

अहमदाबाद: भारतीय जनता पार्टी(भाजपा) ने इस बार लोकसभा चुनाव के दौरान गुजरात में प्रत्याशियों के चयन में काफी सावधानी बरतते हुए अधिकतर भरोसेमंद तथा पुराने चेहरों को ही चुनावी मैदान में उतारा है। गुजरात में कुल 26 लोकसभा सीट हैं जिसमें से भाजपा ने कल 21 सीटों के लिए अपने प्रत्याशियों की घोषणा की। इन 21 प्रत्याशियों में से भाजपा के पार्टी के वरिष्ठ नेता लाल कृष्ण आडवाणी समेत 10 मौजूदा सांसद, दो राज्य मंत्री और चार विधायक शामिल हैं। पिछले लोकसभा चुनाव में भाजपा ने 17 सीटें जीती थीं और इस बार पार्टी के  प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार तथा गुजरात के मुख्यमंत्री नरेन्द्र मोदी ने यहां 22 से 23 सीटें जीतने का लक्ष्य रखा है।

इस लक्ष्य को हासिल करने के लिये भाजपा चुनावी मैदान में नये चेहरों पर दांव लगाने से बची है और उसने अधिकतर अपने भरोसेमंदों
को ही टिकट दिया है। इस बार तीन सांसदों को पार्टी ने टिकट देने से मना कर दिया। कच्छ की सांसद पूनम जाट की जगह इस बार जिला पंचायत के सदस्य विनोद चावडा को प्रत्याशी बना गया है। मोदी इस बार दो जगह उत्तर प्रदेश में वाराणसी से और गुजरात के
वडोदरा से भी चुनाव लड रहे हैं। आडवाणी अपनी पुरानी सीट गांधी नगर से फिर अपना भाग्य आजमा रहे हैं।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You