भारतीय संस्कृति की समग्रता किसी देश से कम नहीं : मैकग्रेगर

  • भारतीय संस्कृति की समग्रता किसी देश से कम नहीं : मैकग्रेगर
You Are HereNational
Friday, March 21, 2014-12:52 AM

नई दिल्ली: प्रसिद्ध कला इतिहासकार और ब्रिटिश संग्रहालय के निदेशक नील मैकग्रेगर के अनुसार भारतीय संस्कृति की सदियों पुरानी समग्रता विश्व में किसी भी देश से कमतर नहीं है और देश की राजधानी में चल रही ऐतिहासिक प्रदर्शनी भारतीय संस्कृति के दायरे और इसकी गहराई को दर्शाती है। लंदन के विशेषज्ञ ने यहां गुरुवार को एक व्याख्यान में कहा कि पिछले सप्ताह राष्ट्रीय संग्रहालय में शुरू रूप-प्रतिरूप प्रदर्शनी मानव शरीर के संदर्भ में सौंदर्यशास्त्र के एक व्यापक परिदृश्य को पेश करती है और साथ ही पिछली चार सदियों से अधिक समय से उपमहाद्वीप में धर्मों के सामंजस्यपूर्ण सहअस्तित्व की मिसाल पेश करती है।

उन्होंने ‘प्रदर्शनियां संग्रहालयों के लिए क्या कर सकती हैं’ विशय पर एक परिचर्चा में कहा, ‘‘आदर्श रूप में, संग्रहालयों को धर्मनिरपेक्ष बने रहना होगा। प्रदर्शनी अपने भव्य विस्तार को प्रदर्शित करती है।’’ यह परिचर्चा मासिक श्रृंखला में तीसरी है। यह प्रदर्शनी भारतीय दर्शकों के लिए कला और संस्कृति की दुनिया के क्षेत्र के विशेषज्ञों और कलाकारों को एक मंच पर साथ लाती है।

डॉ. मैकग्रेगर ने कहा कि वास्तव में यह उल्लेखनीय है कि राष्ट्रीय संग्रहालय की 11 सप्ताह तक चलने वाली इस प्रदर्शनी में 40 से अधिक संस्थाओं से जुटायी गई कलाकृतियों को एक साथ प्रदर्शित किया गया है जबकि आम तौर पर संग्रहालय अपनी वस्तुओं को कहीं और देने में अनिच्छा प्रकट करते हैं। लंदन में नेशनल गैलरी के निदेशक रहने के बाद 12 साल तक लंदन में ही ब्रिटिश संग्रहालय का नेतृत्व करने वाले विषेशज्ञ वक्ता ने कहा, ‘‘दुनिया भर में विभिन्न संस्कृतियों को देखने और अनुभव करने के लिए लोगों में अभिरुचि जागी है।’’

उन्होंने कहा कि ब्रिटिश म्यूजियम में हर साल 60 लाख से अधिक दर्शक आते हैं और यह पिछले दो दशकों से दुनिया भर में अपनी कला कृतियों को व्यापक पैमाने पर भेज रहा है। ऐसी पहल से पुरानी वस्तुओं को पुनर्परिभाषित किया जाता है और ऐसी पहल का यह एक लाभ है और इसके अलावा ऐसी पहल संग्रहालय को अतिरिक्त आय हासिल करने में मदद करती है और साथ-साथ वहां आने वाले दर्षकों की संख्या भी बढ़ती है। मंगलवार को यह व्याख्यान यहां भारतीय सांस्कृतिक संबंध परिषद के सहयोग से जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय के डॉ. नमन पी. आहूजा के द्वारा क्यूरेट किये गये 14 मार्च से 7 जून के शो के बीच सम्पन्न हुआ।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You