छुटभैयों को साथ लेकर हवा बनाने की कोशिश

  • छुटभैयों को साथ लेकर हवा बनाने की कोशिश
You Are HereNational
Thursday, March 27, 2014-10:52 AM

 नई दिल्ली (ताहिर सिद्दीकी): लोकसभा चुनाव आते ही झंडा-बैनर बनाने वालों के साथ ऐसे नेताओं की भी मौज आ गई है, जिन्हें शायद उनके इलाके के लोग भी ठीक तरह से नहीं जानते होंगे लेकिन इन नेताओं को राजनीतिक पाॢटयां इस तरह गाजे-बाजे के साथ अपनी पार्टी में शामिल होने का एलान कर रही हैं कि मानों उन्होंने किसी दिग्गज नेता का पाला अपनी ओर बदलवा लिया है।

प्रदेश कांग्रेस इन दिनों अपनी हवा बनाने के लिए थोक के भाव में बाहरी नेताओं को पार्टी में शामिल करने के लिए विशेष अभियान चलाए हुए है। मंगलवार को भी आधा दर्जन से अधिक नेताओं ने प्रदेश नेतृत्व की मौजूदगी में कांग्रेस का दामन थाम लिया।पिछले 10 दिनों से कांग्रेस यही खेल खेल रही है। हालांकि ज्यादातर मामलों में पाला बदलने के बाद ऐसे नेताओं को नई पार्टी उन्हें ज्यादा अहमियत नहीं देती।

मगर पिछले साल विधानसभा चुनाव में बुरी तरह मात खाने वाली कांग्रेस इन दिनों रोजाना गाजे-बाजे के साथ बाहरी नेताओं को पार्टी में शामिल करने की घोषणा कर रही है। इसकी वजह यह है कि ऐसे नेताओं को शामिल करने से पार्टी को पब्लिसिटी तो मिलती ही है, साथ ही जनता में यह संदेश भी जाता है कि जिस पार्टी में नेता शामिल हो रहे हैं, वह चुनाव जीतने जा रही है। पार्टी सूत्रों के मुताबिक इसी संदेश को पब्लिक में सिरे चढ़ाने के लिए कांग्रेस इस काम में जोर-शोर से जुट गई है।


इसी कड़ी में मंगलवार को बसपा नेता वीर सिंह बिधूड़ी, सुरेंद्र पंवार व पूर्व निगम पार्षद नफीसा खातून अपने दर्जनों सहयोगियों के साथ प्रदेश कार्यालय में कांग्रेस की सदस्यता ग्रहण की। वीर सिंह व सुरेंद्र ने पिछला विधानसभा चुनाव बसपा के टिकट पर लड़ा था, अब यह अलग बात है कि वे अपनी जमानत भी नहीं बचा पाए।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You