सावधान! वकीलों को अब नहीं पहनना पड़ेगा काला कोट

  • सावधान! वकीलों को अब नहीं पहनना पड़ेगा काला कोट
You Are HereNational
Thursday, March 27, 2014-5:44 PM

इंदौर: मध्यप्रदेश में गरमी के तेवर लगातार तीखे होने के बीच वकीलों के लिये अच्छी खबर है। वकीलों को 15 अप्रैल से अगले तीन महीने तक पैरवी के वक्त काला कोट पहनने से छूट मिल गई है। राज्य अधिवक्ता परिषद के सूत्रों ने आज बताया कि गर्मी के मौसम में वकीलों को काला कोट पहनने से होने वाली परेेशानियों को देखते हुए परिषद की कार्यकारिणी समिति ने यह फैसला किया। बार कौंसिल ऑफ इंडिया के संबंधित नियम के मुताबिक किया गया। यह निर्णय प्रदेश में 15 अप्रैल से 15 जुलाई तक प्रभावी रहेगा।

सूत्रों के मुताबिक काला कोट पहनने की छूट के दायरे में आने वाले पुरुष वकीलों को पैरवी के वक्त पहले की तरह सफेद शर्ट, काला या सफेद या धूसर रंग (ग्रे) का धारीदार पैंट पहनना होगा। साथ ही, गले में सफेद रंग की खास पट्टी (एडवोकेट बैंड) लगानी होगी। सूत्रों ने हालांकि स्पष्ट किया कि वकीलों के काला कोट पहनने की छूट उच्चतम न्यायालय और उच्च न्यायालय में पैरवी केे वक्त लागू नहीं होगी। इस बीच, इंदौर डिस्ट्रिक्ट बार एसोसिएशन के पूर्व सचिव गोपाल कचोलिया ने कहा कि चिलचिलाती गरमी के दौरान काला कोट पहनने पर वकील पसीने से तर हो जाते हैं और इससे उन्हें अदालत में पैरवी के वक्त बड़ी दिक्कत होती है।

कचोलिया के मुताबिक प्रदेश के अधिकांश जिला और तहसील अधिवक्ता संघों के कार्यालयोंं में वकीलों के बैठने की जगह उनकी बड़ी तादाद के मुकाबले बेहद कम है। नतीजतन, ज्यादातर वकील अक्सर न्यायालय भवन के बरामदे और इसके बाहर के खुले स्थान में बैठकर अपने जरूरी काम निबटाते हैं। बिजली कटौती के वक्त गर्मी से वकीलों की हालत और खराब हो जाती है। उन्होंने बताया कि प्रदेश के वकीलों ने अपनी ये परेशानियां राज्य अधिवक्ता परिषद तक पहुंचायी थीं। गर्मी में काला कोट पहनने से छूट मिलने से उन्हें अब खासी राहत मिलेगी।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You