<

ये शहर हैं नेताओं के

  • ये शहर हैं नेताओं के
You Are HereNational
Tuesday, April 01, 2014-2:09 AM

नई दिल्ली: लोकसभा चुनाव में एक खास ट्रैंड सामने आ रहा है। पंजाब, हरियाणा और हिमाचल प्रदेश के कुछेक चुनिंदा शहरों से ताल्लुक रखने वाले कई प्रत्याशी चुनाव मैदान में डटे हैं। यह बात और है कि कोई अपने शहर के बाशिंदे को ही टक्कर दे रहा है तो कोई अपने शहर से कोसों दूर दूसरे लोकसभा क्षेत्र में ताल ठोक रहा है। ऐसे में ये शहर खुद-ब-खुद रीजन के राजनीतिक मानचित्र पर हाईलाइट हो गए हैं। इनकी पहचान राजनेता पैदा करने वाले शहर के तौर पर भी उभरने लगी है। पेश है उत्तर भारत के इन खास शहरों पर खास रिपोर्ट...

फरीदाबाद: शहर विशेष के प्रत्याशियों के लिहाज से हरियाणा में दूसरे नंबर पर फरीदाबाद है। यहां 5 प्रमुख दलों के उम्मीदवारों में से 4 फरीदाबाद के हैं। इनमें कांग्रेस के अवतार सिंह भड़ाना, भाजपा के किशन पाल गुज्जर, बसपा के राजिंद्र शर्मा व ‘आप’ के पुरुषोतम डागर फरीदाबाद के रहने वाले हैं।

हिसार: यहां से चुनाव लडऩे वाले 3 प्रत्याशी कांग्रेस के संपत सिंह, बसपा के मांगेराम वर्मा व हिसार के युद्धवीर सिंह ख्यालिया भी हिसार से ही हैं।

भिवानी-महेंद्रगढ़: भिवानी के 3 उम्मीदवार यहां अपनी किस्मत आजमा रहे हैं। इनमें कांग्रेसी की श्रुति चौधरी, भाजपा के धर्मबीर सिंह व ‘आप’ के ललित अग्रवाल भिवानी से संबंधित हैं।

सिरसा और फतेहाबाद से संबंधित 2-2 प्रत्याशी सिरसा सीट पर लड़ रहे हैं। सिरसा से संबंधित प्रत्याशियों में कांग्रेस के अशोक तंवर व बसपा के मांगेराम हैं। सोनीपत से 2 प्रत्याशी भाजपा के रमेश चंद्र व बसपा के सुमन सिंह सोनीपत के हैं। 2 प्रत्याशी गोहाना के हैं। करनाल में 2 प्रत्याशी कांग्रेस के अरविंद शर्मा व ‘आप’ के परमजीत सिंह करनाल के निवासी हैं।

हरियाणा की सभी 10 सीटों पर चुनाव लडऩे के लिए मैदान में उतरी 5 पाॢटयों के उम्मीदवारों में से अम्बाला सीट पर सभी पंचकूला के निवासी हैं। सूबे में यह एकमात्र सीट है, जहां प्रमुख पार्टियों के सभी उम्मीदवार एक ही जगह के हैं। इनमें कांग्रेस के राजकुमार वाल्मीकि, इनैलो की कुसुम शेरवाल, भाजपा के रतन लाल कटारिया, बसपा के कपूर सिंह व आप के सुरेंद्र पाल सिंह शामिल हैं।

पंजाब के लोकसभा चुनाव में शाही शहर पटियाला से संबंध रखने वाले प्रत्याशियों का ही बोलबाला है। पटियाला से ताल्लुक रखने वाले 4 प्रत्याशी पंजाब में लोकसभा चुनाव में विभिन्न सीटों से किस्मत अजमा रहे हैं। इनमें पटियाला से केंद्रीय मंत्री परनीत कौर, संगरूर से मौजूदा सांसद विजयइंद्र सिंगला तथा अमृतसर से कै. अमरेंद्र सिंह का नाम शामिल है। पटियाला से 2 बार लोकसभा के निर्वाचित हुए प्रेम सिंह चंदूमाजरा इस बार श्री आनंदपुर साहिब सीट से चुनाव लड़ रहे हैं। पंजाब के किसी और शहर के इतने लोग चुनाव मैदान में नहीं हैं।

एक गृह क्षेत्र से दो प्रत्याशी पर चुनाव क्षेत्र अलग-अलग
शिमला: हिमाचल में लोकसभा के चुनावी मैदान में दो प्रत्याशी ऐसे हैं, जिनका गृह क्षेत्र एक है। हालांकि, वे अलग-अलग सीटों से भाग्य आजमा रहे हैं। इनमें भाजपा नेता शांता कुमार और परमवीर चक्र विजेता शहीद कै. विक्रम बतरा की मां कमल कांता बत्तरा शामिल हैं। पालमुपर से संबंध रखने वाले शांता कुमार भाजपा के टिकट पर कांगड़ा से लड़ रहे हैं, वहीं पालमपुर से ही संबध रखने वाली कमल कांता बत्तरा हमीरपुर से आम आदमी पार्टी की प्रत्याशी हैं।

एक खास संयोग यह है कि कमल कांता बत्तरा का मायका हमीरपुर जिले के सुजानपुर में है। हमीरपुर से कांग्रेस प्रत्याशी राजेंद्र राणा भी सुजानपुर से ही संबध रखते हैं। हमीरपुर संसदीय क्षेत्र में सेवारत एवं भूतपूर्व सैनिकों की संख्या सबसे अधिक है और वह भी सैन्य परिवार से संबंध रखती हैं। ऐसे में कमल कांता बतरा को उम्मीद है कि इसका भी उन्हें चुनाव में लाभ मिलेगा।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You