चुनौती नहीं, मुकाबला है कांग्रेस और आप से : डा. हर्षवर्धन

  • चुनौती नहीं, मुकाबला है कांग्रेस और आप से : डा. हर्षवर्धन
You Are HereNational
Wednesday, April 02, 2014-12:12 PM

नई दिल्ली (अशोक शर्मा): दिल्ली का दिल कहे जाने वाले चांदनी चौक संसदीय में इस बार त्रिकोणीय मुकाबला होगा। कांग्रेस के प्रत्याशी व केंद्रीय मंत्री कपिल सिब्बल हैट्रिक जमाने के लिए चुनाव मैदान में हैं, जबकि भाजपा ने उन्हें टक्कर देने के लिए प्रदेश पार्टी के मुखिया डा. हर्षवर्धन को उतारे हैं। आप की ओर से पत्रकार से नेता बने आशुतोष भी इसी सीट से किस्मत आजमा रहे हैं। देश के सबसे छोटे इस संसदीय क्षेत्र में इस बार रोचक मुकाबला देखने को मिलेगा। इस संबंध में डा. हर्षवर्धन से हुई खास बातचीत के प्रमुख अंश इस प्रकार हैं।

पूरे देश की नजर इस सीट पर है। आपके सामने क्या चुनौतियां हैं ?

मैं किसी चीज को चुनौती नहीं मानता। चांदनी चौक मेरी कर्मभूमि रही है। 30 साल की राजनीतिक जीवन में मैंने पूरी दिल्ली में काम किया है। मुझे इस बात की बेहद खुशी है कि तुर्कमान गेट में जहां मेरा जन्म हुआ था, आज वहीं से चुनाव लड़ रहा हूं।
ठ्ठचुनाव प्रचार में पार्टी के उन लोगों का साथ मिल रहा है क्या, जो कल तक खुद चांदनी चौक सीट से टिकट की लाइन में लगे थे।
टिकट देने का फैसला पार्टी के शीर्ष नेताओं ने लिया है। उसके बाद से पार्टी के सभी नेता एक साथ मिलकर चुनाव प्रचार कर रहे हैं।

इलाके के लोगों की मुख्य समस्याएं क्या-क्या हैं?

पुरानी दिल्ली का विकास नहीं हो पाना यहां की मुख्य समस्या है। मुझे इस बात का दुख है कि 10 साल तक मंत्री रहने के बावजूद कपिल सिब्बल ने चांदनी चौक के विकास की ओर ध्यान नहीं दिया।

आपको क्षेत्र के मुस्लिम मतदाताओं का समर्थन मिल पा रहा है ?

राजनीति मेरा पेशा नहीं है, एक डाक्टर होने के नाते सबकी सेवा करना मेरा ध्येय है। चुनाव प्रचार में मुस्लिम मतदाताओं का भरपूर समर्थन मिल रहा है।

आपको चुनाव में किस उम्मीदवार से ज्यादा चुनौती मिल रही है?
मुझे दोनों में से किसी से चुनौती नहीं है। आम आदमी पार्टी को लोग भगौड़ा बता रहे हैं, वो केवल झूठ बोलकर राजनीति कर रहे हैं, जो घोटाले करते हैं और अराजकता फैलाने के पक्षधर हैं, उन्हें इस बात जनता माफ नहीं करेगी। दोनों को हराना मेरा उदेश्य है।


आम आदमी पार्टी के बारे में आपकी क्या राय है ?
मुझे लगता है कि जनता का इनसे मोह भंग हो गया है। देश की जनता के सामने इनकी पोल खुल गई है। कपिल सिब्बल का कहना है कि चांदनी चौक में किसी तरह की कोई लहर नहीं है।इस तरह के बयान देना सभी का अधिकार है लेकिन चुनाव नतीजों से इसका मतलब खुद उनकी समझ में आ जाएगा।


यदि दिल्ली में विधानसभा के फिर से चुनाव हुए या सरकार बनाने की कवायद शुरू होती है, तो भाजपा में मुख्यमंत्री पद का प्रत्याशी कौन होगा?
अभी तो सुप्रीम कोर्ट को इसका फैसला करना है लेकिन अभी तो लक्ष्य एक ही है कि नरेंद्र मोदी को प्रधानमंत्री बनाना है।
 


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You