मनमाने फैसले नहीं सहेंगे

  •  मनमाने फैसले नहीं सहेंगे
You Are HereNcr
Thursday, April 03, 2014-2:16 PM
नई दिल्ली (दया राम): नरेला में राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्थान दिल्ली (एन.आई.टी) के विद्यार्थियों ने प्रशासन पर गलत नीतियों और स्टॉफ  के दुव्र्यवहार के विरोध में बुधवार को सड़क पर उतर आए। छात्रों ने घंटों संस्थान के बाहर प्रदर्शन किया और कक्षाओं व परीक्षाओं का बहिष्कार किया। विद्यार्थियों का आरोप है कि संस्थान परीक्षा में माक्र्स, विद्यार्थी काऊंसिल आदि मामलों में मनमाने नियम छात्रों पर लाद रहा है, जिससे उन्हें परेशानी हो रही है। 
 
बैनर के साथ नारेबाजी
छात्रों ने घंटों संस्थान परिसर के बाहर सड़क पर प्रदर्शन किया। हाथों में बैनर-पोस्टर लिए छात्रों ने प्रशासन के खिलाफ नारेबाजी की, जिसके बाद छात्रों का एक प्रतिनिधिमंडल संस्थान प्रशासन से मिला और अपनी 10 सूत्रीय मांग, जिसमें ग्रेडिंग प्रणाली, मार्क, क्राईटेरिया, स्टाफ  का अभद्र व्यवहार, विद्यार्थी काऊंसिल, अतिरिक्त शुल्क चार्ज, क्लास रिव्यू, छात्राओं संबंधी मुद्दें, खेल फंड, विद्यार्थियों से मनमाना व्यवहार और प्रशिक्षण व रोजगार सैल जैसी मांगे शामिल हैं को लेकर पत्र उन्हें सौंपा।  
 
किया था प्रदर्शन 
अपनी मांगों को लेकर आक्रोशित छात्रों ने मंगलवार को भी संस्थान परिसर के बाहर प्रदर्शन किया था। विद्यार्थियों का आरोप है कि प्रदर्शन के बाद मंगलवार देर रात प्रशासन ने छात्रावास से विद्यार्थियों को जाने का कहा और बुधवार की सुबह मैस व पानी तक बंद कर दिया। छात्राओं का कहना है कि जब तक प्रशासन उनकी मांगों पर संज्ञान नहीं लेता तब तक संस्थान प्रशासन की नीतियों को नहीं माना जाएगा। छात्रों का आरोप है कि हड़ताल के दौरान छूटी हुई परीक्षाएं फिर से आयोजित 
होनी चाहिए।

विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You