<

झुग्गियों में रहने वाले 67 फीसदी बच्चे एनीमिया से पीड़ित

  • झुग्गियों में रहने वाले 67 फीसदी बच्चे एनीमिया से पीड़ित
You Are HereNcr
Friday, April 04, 2014-4:12 PM

नई दिल्ली: देश की राजधानी के बच्चे एनीमिया के चपेट में हैं। यहां के शहरी क्षेत्र में रहने वाले 57 फीसद बच्चे एनीमिया से पीड़ित हैं, जबकि झुग्गियों और पुनर्वास कालोनियों में रहने वाले 67 फीसदी बच्चे एनीमिया से ग्रस्त हैं। 

5 वर्ष तक के बच्चों की मृत्यु दर भी चौकाने वाली है। शहरी क्षेत्र में प्रति एक हजार पर 46.7 बच्चों की मौत होती है, जबकि शहरी गरीब इलाके में यह आंकड़ा प्रति हजार पर 73.6 है। शिशु मृत्यु दर (एक साल तक) के मामले भी चौकाने वाले हैं।

प्रति एक हजार पर शहरी क्षेत्र में जहां 29$3 बच्चों की मौत होती है तो शहरी गरीब दिल्ली (इसमें झुग्गी झोपड़ी, पुनर्वास कालोनी, कच्ची कालोनियां) में यह संख्या प्रति हजार पर 35$6 शिशुआें की है।

यह आंकड़े आज यहां गांधी शांति प्रतिष्ठान में आयोजित एक सैमिनार में दिल्ली फोर्सेस नींव समेत 7 अन्य एन.जी.ओ. ने संयुक्त रूप से जारी किए।

  इस मौके पर दिल्ली फोर्सेस नींव के स्टैंडिंग कमेटी के मैंबर विनोद कुमार सिंह ने कहा कि इन आंकड़ों को पिछले वर्ष राजधानी में किए गए एक सर्वे के आधार पर तैयार किया गया है।

इन्हें तैयार करने में दर्जनभर से ज्यादा एन.जी.ओ. शामिल थे और सभी ने पूरी दिल्ली का सर्वे किया है। उन्होंने बताया कि इन आंकड़ों के आधार पर हमने कांग्रेस, भाजपा, आम आदमी पार्टी व सी.पी.आई. से बच्चों की सुरक्षा, स्वास्थ्य, पोषण और शिक्षा समेत बुनियादी सुविधाआें को अपने घोषणा पत्र में शामिल किए जाने की मांग की है।

उन्होंने बताया की हमने अपना मांग पत्र पहले ही इन सभी पार्टियों को दे दिया है। जे.जे.ई.एम. के अध्यक्ष जवाहर ने कहा कि शहरी गरीब दिल्ली की स्थिति तो सबसे ज्यादा खराब है। यहां लोगों के पास जब रहने को घर नहीं हैं तो उनके बच्चों का स्वास्थ्य कैसे बेहतर रहेगा।  

उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम, 2013 पारित तो हो गया पर इसका क्रियान्वयन सही तरीके से नहीं होने की वजह से कमजोर व हाशिये पर रहने वाले बच्चों को भूख और कुपोषण से छुटकारा नहीं मिल रहा है। 

सैमिनार में दिल्ली बचपन सुरक्षा मंच, एलाइंस फॉर पीपल राइट्स, सांझा मंच, दिल्ली शिक्षा का अधिकार मंच, रोजी रोटी अधिकार अभियान, दिल्ली जन स्वास्थ्य अभियान दिल्ली, एफ.आई.यू.पी.डब्ल्यू. एन.जी.ओ. से जुड़े लोग शामिल थे।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You