पैसा है हमारी सबसे बड़ी चुनौती : आशीष खेतान

  • पैसा है हमारी सबसे बड़ी चुनौती : आशीष खेतान
You Are HereNcr
Sunday, April 06, 2014-11:21 AM

नई दिल्ली : खोजी पत्रकारिता छोड़ आम आदमी पार्टी (आप) के टिकट पर नई दिल्ली लोकसभा से चुनावी मैदान में उतरे आशीष खेतान जमकर पसीना बहा रहे हैं। दिल्ली विधानसभा चुनाव में आम आदमी पार्टी को इस लोकसभा क्षेत्र की 10 में 7 सीटों पर विजय हासिल हुई थी, इसलिए वह न केवल अपनी जीत के लिए आश्वस्त हैं बल्कि डोर-टू-डोर प्रचार पर खासा ध्यान दे रहे हैं। चुनाव में क्या हैं उनकी चुनौती और क्या हैं क्षेत्र की समस्याएं। यह जानने के लिए निहाल सिंह ने आशीष खेतान से खास बातचीत की, प्रस्तुत हैं प्रमुख अंश:- 

 भाजपा से मिनाक्षी लेखी मैदान में हैं और सांसद अजय मकान भी जीत का दावा कर रहे हैं, आपकी चुनौती किससे हैं ?

हमारी चुनौती किसी से नहीं है, बस पैसा ही हमारी चुनौती है। कांग्रेस और भाजपा जमकर चुनाव प्रचार में पैसा बहा रहे हैं लेकिन हमारे पास पैसा नहीं है। भाजपा ने दिल्ली के सारे प्रचार स्थलों पर खूब होर्डिंग बाजी की है क्योंकि वह उद्योगपतियों से पैसा लेकर चुनाव लड़ रहे हैं और हम जनता से चंदा लेकर चुनाव लड़ रहे हैं, इसलिए हमारी चुनौती न तो भाजपा है और न ही कांग्रेस, हमारी चुनौती पैसा है।


 क्षेत्र की क्या समस्याएं हैं और आप उनका कैसे निदान करेंगे ?
नई दिल्ली विधानसभा में बहुत सी समस्याएं हैं, जैसे-जाम बिजली, स्वच्छ पानी, और पार्किंग जिसको लेकर आम आदमी पार्टी ने अपना घोषणा पत्र जारी किया है और 7 सूत्री एक प्रोग्राम बनाकर जीतने के बाद समस्याओं को जल्द से जल्द खत्म करने की योजना बनाई है।


 पत्रकारिता ज्यादा कठिन है या राजनीति, आपको चुनाव लड़कर कैसा लग रहा है?

मेरे लिए दोनों ही पेशे बहुत ही चुनौती पूर्ण हैं। पत्रकारिता करने के दौरान मुझे जो भी चुनौती मिली मैंने उस चुनौती को स्वीकार कर डटकर सामना किया। राजनीति भी एक चुनौती है, जिसमें स्वच्छता और ईमानदारी से काम करके जनता का भरोसा जीतना है और रही चुनाव लडऩे की बात तो मुझे आम आदमी पार्टी के टिकट पर चुनाव लड़कर गर्व हो रहा है।


 केजरीवाल पर सरकार छोड़कर भागने का आरोप लग रहा है इस पर आपकी राय क्या है ?

लोग हमसे इसलिए नाराज नहीं हैं कि हमने इस्तीफा दे दिया बल्कि इसलिए नाराज हैं कि केजरीवाल सरकार काफी अच्छा काम कर रही थी । सरकार की वजह से दिल्ली में भ्रष्टाचारी में भी खौफ आ गया था, इसलिए जनता राहत महसूस कर रही थी लेकिन सरकार छोडऩे के बाद फिर से वही सब हो रहा है, जो शीला सरकार में हो रहा था, इसलिए जनता हमसे थोड़ी सी नाराज है।


 अजय माकन के काम से आप कितने संतुष्ट हैं ?

अजय माकन ने 5 साल कुछ भी काम नहीं किया। माकन सिर्फ राहुल गांधी के पिछलग्गू बनकर काम करते रहे और जनता से दूर भागते रहे, जिसकी वजह से इस क्षेत्र में समस्याओं का काफी अंबार है।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You