आरएसएस को सांस्कृतिक संगठन होने का पर्दा हटा देना चाहिए: रमेश

  • आरएसएस को सांस्कृतिक संगठन होने का पर्दा हटा देना चाहिए: रमेश
You Are HereNational
Monday, April 07, 2014-10:40 PM

नई दिल्ली: कांग्रेस के नेता जयराम रमेश ने आज यहां कहा कि राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ (आरएसएस) एक राजनीतिक संगठन है और उसे एक सांस्कृतिक संगठन होने का ‘‘पर्दा’’ हटा देना चाहिए। संघ पर मतों के ध्रुवीकरण के लिए ‘‘नफरत’’ फैलाने का आरोप लगाते हुए रमेश ने कहा कि यह मुजफ्फरनगर तथा नरेंद्र मोदी को वाराणसी से उतारने के भाजपा के फैसले से स्पष्ट है ‘‘जो कि सिर्फ ट्रेलर है।’’

केंद्रीय मंत्री ने कहा ‘‘आरएसएस धर्म के नाम पर मतों के ध्रुवीकरण के लिए अपने कैडरों को फैला रहा है।’’ उन्होंने कहा कि संघ की रणनीति के दो स्तंभ हैं। ‘‘एक मोदी को आगे बढ़ाना और प्रत्याशियों के नहीं बल्कि उनके नाम पर वोट मांगना, दूसरा मतों का धु्रवीकरण, जो हमने मुजफ्फरनगर में देखा, जो कि सिर्फ ट्रेलर है।’’

कांग्रेस नेता ने आरोप लगाया कि संघ मतदाताओं का, खासकर उत्तर प्रदेश और बिहार में ध्रुवीकरण कर रहा है। केंद्रीय मंत्री ने कहा ‘‘अंत में बेहतर यही होगा कि वह सांस्कृतिक संगठन होने का पर्दा हटा दे। आरएसएस एक राजनीतिक संगठन है। मूल रूप से यह राजनीतिक संगठन है जिसका राजनीतिक एजेंडा सांप्रदायिक धु्रवीकरण का है।’’ उन्होंने आरएसएस के इस दावे को दिखावा करार दिया कि वह एक सांस्कृतिक संगठन है। ‘‘यह एक बोगस तर्क है।’’


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You