<

पटरी वालों ने दी भूख हड़ताल की चेतावनी

  • पटरी वालों ने दी भूख हड़ताल की चेतावनी
You Are HereNational
Tuesday, April 08, 2014-3:10 PM
नई दिल्ली : इरविन अस्पताल के बाहर सालों से रोजी-रोटी कमा रहे लगभग 100 वेंडरों को बिना नोटिस दिए 21 मार्च को खदेड़ दिया गया। जबकि घटना से चार दिन पहले ही वेंडर्स का एक प्रतिनिधि मंडल गृहमंत्री से मिला था।
 
गृहमंत्रालय ने स्थानीय निकाय और पुलिस के आला धिकारियों को हिदायत दी थी कि जब तक नए कानून के तहत दिल्ली के वेंडर्स का पंजीकरण नहीं होता और उन्हें सर्टिफिकेट ऑफ वेंडिंग नहीं मिल जाता, तब तक किसी भी वेंडर को परेशान न किया जाए। लेकिन पुलिस व निकाय ने गृहमंत्रालय के आदेशों की धज्जियां उड़ाते हुए वेंडरों को उजाड़ दिया।
 
दिल्ली प्रदेश रेहड़ी पटरी खोमचा हाकर्स यूनियन के महामंत्री जगदीश मनोचा ने बताया कि वेंडर्स का एक प्रतिनिधि मण्डल 21 मार्च को ही निगम के डिप्टी कमिश्नर सिटी जोन, उत्तरी निगम से मिला था। धंधा नहीं कर पाने के कारण गरीब वेंडर भुखमरी की कगार पर आ गए हैं। 

वेंडरों ने चेतावनी दी है कि यदि  रोजी-रोटी नहीं कमाने दी जाती है तो वह सब मजबूर होकर सिविक सेंटर पर भूख हड़ताल और धरना प्रदर्शन करेंगे। 


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You