चीन के कारण भारत ऑस्ट्रेलिया के इस अनुरोध को कर सकता है खारिज

  • चीन के कारण भारत ऑस्ट्रेलिया के इस अनुरोध को कर सकता है खारिज
You Are HereInternational
Friday, April 21, 2017-12:46 PM

मेलबर्न: ऑस्ट्रेलियाई सरकार इस साल मालाबार नौसैन्य अभ्यास में पुन: शामिल होने के लिए उत्सुक है लेकिन उसके इस कदम पर चीन की प्रतिक्रिया से जुड़ी चिंताओं के चलते भारत इस अनुरोध को खारिज कर सकता है। यह बात आज एक मीडिया रिपोर्ट में कही गई है।

मीडिया रिपोर्ट मुताबिक ऑस्ट्रेलियाई रक्षा मंत्री मेराइज पाएने ने तोक्यो में इस रक्षा अभ्यास में शामिल होने की अपने देश की इच्छा को व्यक्त किया है। इस अभ्यास में अमरीका, भारत और हाल ही में जापान की सैन्य शक्तियां ऑस्ट्रेलिया के उत्तर में वार्षिक नौसैन्य अभ्यास करती हैं। पाएने ने कहा,‘‘ऑस्ट्रेलिया भारत, जापान और अमरीका के साथ चार पक्षीय जुड़ाव बनाने में दिलचस्पी रखता है। हालांकि यह क्या रूप लेता है, यह विभिन्न देशों के बीच चर्चा का विषय है।’’ इस रिपोर्ट में यह भी कहा गया कि इस बात के कयास बढ़ रहे हैं कि भारत इस साल के अभ्यास में शामिल होने के ऑस्ट्रेलिया के अनुरोध को खारिज कर देगा। एेसा वह चीन के साथ कूटनीतिक तनाव बढ़ने की आशंका के चलते करेगा।

ऑस्ट्रेलियाई रक्षा मंत्रालय ने कहा, ‘‘भारत ने इस बात का संकेत नहीं दिया है कि ‘ऑस्ट्रेलियन डिफेंस फोर्स’ (एडीएफ)को वर्ष 2017 में मालाबार अभ्यास में बुलाया जाएगा या नहीं।’’मीडिया को जारी किए एक बयान में रक्षा मंत्रालय ने कहा कि वर्ष 2015 के बाद से ऑस्ट्रेलिया ने मालाबार अभ्यास में एडीएफ की भागीदारी के मुद्दे पर लगातार चर्चा की है। रिपोर्ट में कहा गया कि पिछले कुछ सप्ताह में देश के रक्षा महकमे ने नई दिल्ली से अनुरोध किया है कि वह एडीएफ को इस साल आधिकारिक ‘पर्यवेक्षक’ के तौर पर इस साल के अभ्यासों में शामिल होने की अनुमति दे। वर्ष 2007 में, ऑस्ट्रेलिया मालाबार अभ्यास में शामिल हुआ था लेकिन बीजिंग द्वारा चिंता जताए जाने के बाद वह इन अभ्यासों और सुरक्षा वार्ताओं से पीछे हट गया था। 


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You