आत्मविश्लेषण करें: आप स्वयं को कितना ज्ञानी समझते हैं?

  • आत्मविश्लेषण करें: आप स्वयं को कितना ज्ञानी समझते हैं?
You Are HereReligious Fiction
Tuesday, December 23, 2014-8:43 AM

वाल्टर हाइन्स येज प्रसिद्ध अखबार ‘दि वल्ड्रस वर्क’ के संपादक थे। इस नाते प्रतिदिन उन्हें कई रचनाओं को स्वीकृत-अस्वीकृत करना पड़ता था। एक लेखिका ने उन्हें लिखा, ‘‘पिछले सप्ताह आपने मेरी कहानियां सखेद लौटा दीं। मेरा यह दावा है कि आपने मेरी कहानी को पढ़ा ही नहीं। मेरा यह पूर्वानुमान था कि आप जैसे संपादक अपने काम में ईमानदारी नहीं बरतते, इसी की जांच के लिए मैंने अपनी कहानी के बीच के पृष्ठों को एक साथ चिपका दिया था और जब कहानी वापस आई तो वे पृष्ठ वैसे ही चिपके हुए थे। यह आपकी अयोग्यता नहीं तो और क्या है?’’

 इस पर मिस्टर येज ने जवाब दिया, ‘‘आपका, ज्ञान अभी कच्चा है मैडम! हांडी के चावल पके हैं या नहीं यह जानने के लिए सिर्फ चावल को टटोला जाता है, पूरी हांडी को उलटकर चावलों को टटोलने की जरूरत नहीं पड़ती।’’   

—सुभाष बुड़ावनवाला


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You