पंजाब के बच्चे की इच्छा पर पिघले बराक ओबामा

  • पंजाब के बच्चे की इच्छा पर पिघले बराक ओबामा
You Are HereChandigarh
Saturday, December 14, 2013-2:53 PM

मोहाली: पंजाब का 13 वर्षीय बच्चा सविन्द्र सिंह एक ऐसी बीमारी से जूझ रहा है, जिसका कारण अमरीका के डॉक्टरों की भी समझ से बाहर है। ऐसे में उसके माता-पिता के पास अपने लाड़ले के हाल पर दिल कठोर करके उसे देखते रहने के अलावा कोई विकल्प नहीं बचा है लेकिन सविन्द्र की एक इच्छा पर अमरीका के राष्ट्रपति बराक ओबामा का दिल तब पिघल गया जब उन्होंने इंटरनैट पर सविन्द्र का संदेश देखा।

ओबामा ने तुरंत खुशमिजाज और मेधावी छात्र सविन्द्र को अपने व्हाइट हाऊस का मेहमान बनाकर सविन्द्र के जीवन की इकलौती ख्वाहिश पूरी कर दी। ओबामा ने सविन्द्र को न केवल तीन दिन व्हाइट हाऊस में रखा, बल्कि उसे अपनी कुर्सी पर बैठाया और उसके इलाज का खर्च भी उठाने की घोषणा कर दी। हालांकि डॉक्टरों ने कह दिया है कि सविन्द्र अब सिर्फ तीन साल और इस बीमारी से लडऩे में सक्षम है।

आठ साल से है बीमारी का शिकार
मोहाली जिले के गांव बलौंगी में अपने नजदीकी रिश्तेदार भाजपा नेता परमजीत सिंह वालिया के साथ कई दिन गुजार कर गए सविन्द्र सिंह को यह बीमारी आठ वर्ष से है। पैरों से लेकर घुटनों तक उसका भार लगातार बढ़ता जा रहा है। उसको स्कूल भी व्हील चेयर पर जाना पड़ता है। सविन्द्र के माता-पिता ने उसका हर संभव इलाज करवाया, लेकिन कहीं से उन्हें सफलता नहीं मिली। उसकी बीमारी को डॉक्टर समझ ही नहीं पा रहे हैं। मेधावी सविन्द्र ने ऐसी हालत में भी स्कूल जाना नहीं छोड़ा। उसका दिमाग इतना तेज है कि इतनी छोटी उम्र में ही उसकी गिनती मैथ के माहिरों में हो चुकी है।

नहीं मिला इलाज
सविन्द्र के पिता सुरिन्द्र सिंह ने बताया कि आठ साल पहले उन्हें सविन्द्र की बीमारी का तब पता लगा जब उसकी टांगों का भार अचानक बढऩा शुरू हो गया लेकिन शुरूआत में इस बीमारी को गंभीरता से नहीं लिया, क्योंकि इसमें विकलांगता जैसे लक्षण नहीं थे। बाद में बीमारी बढ़ती गई तो सविन्द्र के इलाज के लिए अमरीका के अलावा आंध्र प्रदेश, विशाखापट्टनम व चंडीगढ़ स्थित पी.जी.आई. के डॉक्टरों से भी राय ली लेकिन इलाज में सफलता नहीं मिली। उन्होंने बताया कि इस बीमारी के बावजूद उन्होंने कभी सविन्द्र के चेहरे पर निराशा नहीं देखी।

अंगहीन बच्चों के लिए प्रेरणा स्रोत
सविन्द्र आज अंगहीन बच्चों के लिए प्रेरणा का स्रोत बन चुका है। उससे मिलने वाले एक मुलाकात में ही उसके बन जाते हैं। इतनी छोटी उम्र में जब वह गणित के बड़े-बड़े सवाल हल करता है तो उसके सामने बैठा व्यक्ति सहज ही उसकी प्रतिभा का मुरीद हो जाता है। गणित ही नहीं, उसे अन्य विषयों में भी महारत हासिल है।

व्हाइट हाऊस से मिला न्यौता
सविन्द्र के स्कूल प्रबंधन ने उसकी परीक्षा का नतीजा इंटरनैट पर डाला। इसमें सविन्द्र का संदेश भी था, जिसमें उसने इच्छा जताई थी कि वह बड़ा होकर अमरीका का राष्ट्रपति बनना चाहेगा और एक न एक दिन व्हाइट हाऊस में बैठेगा। सविन्द्र के इस संदेश को पढ़कर व्हाइट हाऊस के अधिकारियों ने उसके माता-पिता से संपर्क साधा और उन्हें व्हाइट हाऊस आने का न्यौता दिया। सविन्द्र अपने पिता सुरिन्द्र सिंह, मां जतिन्द्र कौर व तीन बहनों शिवानी सिंह, शबीना सिंह, शिवांजलि सिंह, भाई शिवनूर सिंह के साथ व्हाइट हाऊस पहुंचा और तीन दिन व्हाइट हाऊस में बिताए।

ओबामा ने कहा, सविन्द्र से मिली नई ऊर्जा
बराक ओबामा ने सविन्द्र का परिवार सहित व्हाइट हाऊस पहुंचने पर खुद व्हाइट हाऊस के दरवाजे पर स्वागत किया। सविन्द्र से बातचीत के दौरान ओबामा ने कहा कि वह सविन्द्र से मिलकर खुद को बेहद ऊर्जावान महसूस कर रहे हैं। ओबामा ने उसके परिवार के साथ बातचीत में सविन्द्र की बीमारी के बारे में विस्तार से जानकारी हासिल की और उसके इलाज में आने वाला पूरा खर्च देने का ऐलान किया।

पता ही नहीं लगा तीन दिन कब गुजर गए
सविन्द्र के पिता ने बताया कि व्हाइट हाऊस में तीन दिन पता ही नहीं चले, कैसे गुजर गए। एक दिन भी ऐसा महसूस नहीं हुआ कि वह अपने घर में नहीं हैं। उन्होंने कहा कि व्हाइट हाऊस में भव्य स्वागत और बराक ओबामा द्वारा मेजबानी में खुद दिलचस्पी लेना ताउम्र न भूलने वाला पल बन गया है। अपनी संतुष्टि व खुशी को शब्दों में बयान नहीं किया जा सकता।

उन्होंने बताया कि सविन्द्र को व्हाइट हाऊस के चप्पे-चप्पे में घुमाया गया। सविन्द्र ने व्हाइट हाऊस की किचन को भी देखा और व्हाइट हाऊस में राष्ट्रपति की कुर्सी पर बैठने की इच्छा भी पूरी की। ओबामा ने सविन्द्र को अमरीका की यूनिवर्सिटी में भाषण देने के लिए साथ ले जाने की इच्छा भी जताई।

ओबामा को भेंट किए तोहफे
अमरीका के राष्ट्रपति बराक ओबामा को सविन्द्र व उसके परिजनों ने तोहफे के रूप में हरिमंदिर साहिब (अमृतसर) का मॉडल, ताजमहल का मॉडल व हाथी के जोड़ों का एक मॉडल भेंट किया। इस दौरान सविन्द्र को व्हाइट हाऊस के अधिकारियों ने बराक ओबामा के हैलीकॉप्टर को भी दिखाया।

सविन्द्र ने ओबामा के पालतू कुत्ते बो-बो के साथ भी पल बिताए। सविन्द्र के पिता पंजाब के जिला लुधियाना में स्थित गांव मैहंदीपुर से संबंधित हैं। वह 1994 में अमरीका चले गए थे।

परमजीत वालिया ने कहा, सविन्द्र पर देशवासियों को गर्व

सविन्द्र के नजदीकी रिश्तेदार और भाजपा नेता परमजीत सिंह वालिया बलौंगी ने कहा कि सविन्द्र पर रिश्तेदारों को ही नहीं, बल्कि पूरे देशवासियों को गर्व है। विशेषकर देश-विदेश में रहने वाले पंजाबियों के लिए यह फक्र की बात है कि सविन्द्र की प्रतिभा के चलते दुनिया के शक्तिशाली देश अमरीका के राष्ट्रपति ने उसे खुद व्हाइट हाऊस आने का न्यौता दिया। वालिया ने कहा कि सविन्द्र जब पंजाब आया था तो उसने भाजपा के सीनियर नेता व पंजाब विधानसभा के पूर्व डिप्टी स्पीकर सतपाल गोसाईं से भी भेंट की थी। गोसाईं भी सविन्द्र से बेहद प्रभावित हुए।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You