केजरीवाल के नए धमाके ने भाजपा की मुश्किलें और बढ़ाई

  • केजरीवाल के नए धमाके ने भाजपा की मुश्किलें और बढ़ाई
You Are HereNational
Saturday, February 15, 2014-4:41 PM

जालंधर: दिल्ली के कार्यवाहक मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल द्वारा अपने पद से दिए गए त्याग पत्र के बाद भाजपा की मुश्किलें राष्ट्रीय स्तर पर और बढ़ गई हैं। भाजपा की पहले ही यह शिकायत रही है कि इलैक्ट्रॉनिक चैनलों व प्रिंट मीडिया में भाजपा के प्रधानमंत्री पद के दावेदार नरेंद्र मोदी की कवरेज कम आ रही है जबकि सभी चैनलों में केजरीवाल को अधिक स्थान दिया जा रहा है। स्वयं मोदी ने भी एक रैली में इसका जिक्र किया था। अब केजरीवाल के नए धमाके से भाजपा की मुश्किलें और बढ़ सकती हैं क्योंकि सभी चैनलों में केजरीवाल छा गए हैं। प्रत्येक चैनल में केजरीवाल को लेकर ही समाचार व चर्चाएं चल रही हैं।

5 राज्यों में हुए चुनावों से पहले अधिकांश चैनलों पर नरेंद्र मोदी छाए रहते थे। उन्हें राहुल गांधी से अधिक कवरेज व महत्व चैनलों में दिया जाता था परन्तु जब दिल्ली चुनावों के नतीजों में केजरीवाल को 28 सीटें मिल गई तो अचानक केजरीवाल की महत्ता राष्ट्रीय चैनलों में बढ़ गई। उसके बाद से ही चैनलों में केजरीवाल को लेकर ही चर्चाएं चलती रहीं। अब केजरीवाल द्वारा मुख्यमंत्री पद को ठुकरा देने से राजनीतिक हलकों में इसे साहसिक कदम माना जा रहा है।

दूसरी तरफ भाजपा में इस बात को लेकर चिंता है कि अगले 2 महीने राजनीतिक दृष्टि से काफी महत्वपूर्ण हैं। केजरीवाल का इस्तीफा अगर स्वीकार हो जाता है तो केजरीवाल अपनी टीम को लेकर सड़कों पर आ जाएंगे तथा जिस तरह से वह जनता के बीच चले जाते हैं उससे संभाविक है कि केजरीवाल  को चैनलों में और अधिक स्थान मिलना शुरू हो जाएगा। वह मीडिया के साथ भी घुले मिले रहते हैं। ऐसे में मोदी की कवरेज चैनलों में और कम हो जाएगी। भाजपा व आरएसएस दोनों केजरीवाल के धमाके से स्तब्ध हैं तथा माना जा रहा है कि दोनों द्वारा आने वाले दिनों में नई रणनीति बनाई जा सकती है ताकि मोदी भी चैनलों में चुनाव से पूर्व दिखाई देते रहें।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You