मोदी ने नहीं सुनी बादल की ‘विनती’

  • मोदी ने नहीं सुनी बादल की ‘विनती’
You Are HereNational
Monday, February 24, 2014-4:53 PM

जगराओं: भाजपा के प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार नरेंद्र मोदी ‘फतेह रैली’ में जमकर गरजे भी और पंजाब व पंजाबियों को देश के लिए लडऩे-मरने वाला बताते हुए तारीफ भी की लेकिन पंजाबियों, खासकर सिखों से जुड़े 1984 के सिख विरोधी दंगों के अहम मुद्दे पर वह एक शब्द भी नहीं बोले, वह भी तब जब इसी मंच पर पंजाब के मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल ने मोदी से खास आग्रह करते हुए यह मुद्दा उठायाथा।

1984 के दंगों के लिए कांग्रेस को जिम्मेदार बताते हुए बादल ने कहा कि कांग्रेस सरकारों के दौरान इन्साफ दिलाने का दिखावा तो बहुत हुआ लेकिन दंगों के दोषी खुले घूम रहे हैं। पंजाबियों को मुगलों व अंग्रेजों के राज में हुए जुल्मों का इतना दुख नहीं है जितना अपनी शहादतों के बूते हासिल की आजादी के बाद कांग्रेस सरकार द्वारा ढाए जुल्म का है। उन्होंने मोदी से कहा कि जब आप प्रधानमंत्री बनें तो सुप्रीम कोर्ट के सिटिंग जज की अगुवाई में एस.आई.टी. बनाएं और सभी दोषियों को सजा दिलवाएं ताकि सिखों को देश में समान नागरिक अधिकार मिलने का अहसास हो।

मोदी ने अपने भाषण में खुद को पंजाब व पंजाबियों से जुड़ा बताया। ऐतिहासिक घटनाओं का जिक्र करके पंजाब और गुजरात के बीच पुरानी भाईचारक सांझ का भी हवाला दिया लेकिन बादल की मांग का कोई जिक्र नहीं किया।है जितना अपनी शहादतों के बूते हासिल की आजादी के बाद कांग्रेस सरकार द्वारा ढाए जुल्म का है।

उन्होंने मोदी से कहा कि जब आप प्रधानमंत्री बनें तो सुप्रीम कोर्ट के सिटिंग जज की अगुवाई में एस.आई.टी. बनाएं और सभी दोषियों को सजा दिलवाएं ताकि सिखों को देश में समान नागरिक अधिकार मिलने का अहसास हो। मोदी ने अपने भाषण में खुद को पंजाब व पंजाबियों से जुड़ा बताया। ऐतिहासिक घटनाओं का जिक्र करके पंजाब और गुजरात के बीच पुरानी भाईचारक सांझ का भी हवाला दिया लेकिन बादल की मांग का कोई जिक्र नहीं किया। 


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You