छत्तीसगढ़ नक्सल हमला: पंजाब ने खोया अपना बेटा

  • छत्तीसगढ़ नक्सल हमला: पंजाब ने खोया अपना बेटा
You Are HereNational
Thursday, March 13, 2014-5:01 PM

जालंधर: छत्तीसगढ़ के सुकमा जिले में मंगलवार को नक्सलवादियों द्वारा सुरक्षा बलों के शहीद किए गए जवानों में से एक जवान पंजाब का भी था जो नवांशहर जिले के गांव भरौली का रहने वाला था। छत्तीसगढ़ के नक्सल हमले में पंजाब ने भी अपना बेटा खो दिया है। सुकमा जिले की जीरम घाटी में नक्सलियों द्वारा किए गए इस नरसंहार में सी.आर.पी.एफ. के 11 जवान शहीद हुए थे। पंजाब का बेटा तिलक राज सिंह भी सी.आर.पी.एफ. में नौकरी कर रहा था।

इससे पहले वह भारतीय सेना में थे परन्तु वहां से प्री-रिटायरमैंट लेने के बाद उन्होंने सी.आर.पी.एफ. में नौकरी कर ली थी। तिलक राज सिंह की शहीदी का समाचार मिलते ही पूरा गांव शोक में डूब गया। तिलक राज अपने पीछे 2 लड़कियां व 2 लड़के छोड़ गए हैं। उनकी पत्नी का पहले ही कैंसर की बीमारी के कारण देहांत हो चुका है। परिवार में केवल अभी एक लड़की की शादी हुई है जबकि 3 बच्चे अविवाहित हैं। तिलक राज का शव आज गांव में पहुंचने की उम्मीद है। तिलक राज के घर में गांववासियों का जमावड़ा लगा हुआ था जो उनके बच्चों को दिलासा दे रहे थे।

शहीद का अंतिम संस्कार आज: शहीद तिलक राज का अंतिम संस्कार 13 मार्च को गांव में किया जाएगा। वरिन्द्र सिंह ने बताया कि आज सेना द्वारा उनके पिता का शव गांव में पहुंचा दिया जाएगा।

गांव वासियों को तिलक राज पर गर्व: भरौली गांव के लोगों ने इस अवसर पर बातचीत करते हुए कहा कि उन्हें पंजाबी बेटे तिलक राज सिंह पर गर्व है जिन्होंने छत्तीसगढ़ में नक्सलवादियों के खिलाफ जंग बखूबी लड़ी। उन्होंने कहा कि नक्सलवादियों ने कायरतापूर्ण कार्रवाई की है। उन्होंने घात लगाकर हमला किया।

बेटी की आंखों से आंसू नहीं रुक रहे थे
शहीद तिलक राज की बेटी बलविन्द्र कौर का बुरा हाल था। उसकी आंखों से आंसू नहीं थम रहे थे। वह बार-बार अपने पिता को याद करके रो रही थी। गांव की महिलाओं ने किसी तरह से उसकी बेटी को संभाला हुआ था। परिवार में सबसे बड़ी दुखद बात यह थी कि अब परिवार में कमाने वाला कोई भी सदस्य नहीं है। शहीद का बेटा वरिन्द्र सिंह भी अभी बेरोजगार है। वह भी नौकरी की तलाश में है। वरिन्द्र सिंह ने कहा कि कल शाम उन्हें छत्तीसगढ़ से फोन आया था कि उनके पिता को नक्सली हमले में गोली लगी है, देर रात उनके शहीद होने का समाचार मिला।

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!

Recommended For You