प्रचार में नमो ऑन बाकी मुद्दे गौण

  • प्रचार में नमो ऑन बाकी मुद्दे गौण
You Are HereNational
Saturday, March 22, 2014-4:05 PM

चंडीगढ़: कभी शिअद-भाजपा गठबंधन में ड्राइविंग सीट पर बैठकर रास्ता दिखाने वाला शिरोमणि अकाली दल इस लोकसभा चुनाव में भाजपा के सहारे चलता दिख रहा है। गठबंधन मानकर चल रहा है कि देश में हवा ही ऐसी चल रही है, जिसका उसे भी फायदा हो सकता है। इस माहौल से भाजपा का प्रदेश नेतृत्व भी खुश है, क्योंकि इसी बहाने सही, प्रदेश में गठबंधन सहयोगी से उन्हें कुछ तो तवज्जो मिल रही है।

आलम यह है कि शिरोमणि अकाली दल के चुनावी प्रचार में कांग्रेस की निंदा, पंजाब के साथ केंद्र के पक्षपात जैसे स्थायी मुद्दे तो बहरहाल हैं ही, लेकिन शिअद नेताओं के भाषणों का मुख्य मुद्दा भाजपा और नरेंद्र मोदी की तारीफें बनकर रह गया है। यहां तक कि देश की राजनीति में कहीं ऊंचे कद के मालिक मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल भी लगातार नमो-नमो जपते दिख रहे हैं। इतना ही नहीं, गत दिवस तो मुख्यमंत्री ने भाजपा प्रत्याशी अरुण जेतली को देश का भावी वित्तमंत्री करार देते हुए यह तक कह दिया कि वित्तमंत्री जब पंजाब से जीतकर गया होगा तो खजाने का मुंह पंजाब के लिए अधिक खुल जाएगा।

शिअद नेतृत्व पर भाजपा व नमो इस कदर छाया है कि गत दिवस लुधियाना में लोकल मुद्दों पर पूछे सवाल मुख्यमंत्री ने अनसुने कर दिए। बात तब से ही शुरू हो गई थी जब भाजपा के भीतर ही प्रधानमंत्री पद के दावेदार के तौर पर नरेंद्र मोदी के नाम का ऐलान होने की अटकलें चल रही थीं। उस दौरान एन.डी.ए. में भाजपा के सहयोगी दल शिअद ने मोदी का समर्थन किया था। औपचारिक घोषणा होते ही शिअद नेतृत्व लगातार मोदी को प्रधानमंत्री बनाने की अपील हर भाषण में करने लगा था और यह सिलसिला अब तक जारी है।

चुनावी रैलियों में शिअद नेतृत्व खासकर बादल परिवार के तीनों सदस्य मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल, उप मुख्यमंत्री सुखबीर बादल और भटिंडा से गठबंधन प्रत्याशी हरसिमरत कौर भाषणों में मोदी का जिक्र करना नहीं भूलते। मुख्यमंत्री तो अपने संबोधनों में भाजपा नेता को पंजाब के सभी ‘रोगों’ और समस्याओं का निदान करने वाला चित्रित करने लगे हैं।

उपमुख्यमंत्री सुखबीर भी जहां मोदी को प्रधानमंत्री के तौर पर पेश करके गठबंधन प्रत्याशियों के लिए वोट मांग रहे हैं, वहीं केंद्र में एन.डी.ए. सरकार बनने के बाद पंजाब को मिलने वाले फायदे भी गिनाना नहीं भूलते। भाजपा के प्रदेशाध्यक्ष कमल शर्मा कहते हैं कि लोकसभा चुनाव में राष्ट्रीय मुद्दे ही प्राथमिक होते हैं।

विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You