अप्रैल फूल: मीडिया से लेकर आम जनता तक बनी बेवकूफ

  • अप्रैल फूल: मीडिया से लेकर आम जनता तक बनी बेवकूफ
You Are HerePunjab
Tuesday, April 01, 2014-4:10 PM

भटिंडा: फर्स्ट अप्रैल यानी अप्रैल फूल, एक ऐसा दिन जब एक-दूसरे को मूर्ख बनाने का प्रचलन है। मजे की बात है कि इस दिन मूर्ख बनने वाला इंसान वास्तविकता का पता लगने पर नाराज भी नहीं होता। इसी के चलते मंगलवार को लोगों ने फस्र्ट अप्रैल पर खूब मस्ती की। जहां परिवारों, दोस्तों, रिश्तेदारों में हंसी ठिठोली का दौर जारी रहा वहीं दूसरी ओर अप्रैल फूल के चलते महानगर में अफवाहों का बाजार भी गर्म रहा। सुबह से लेकर सायं तक उड़ती अफवाहों के चलते कई लोग परेशान भी हुए।

व्यक्ति के झील में कूदने की अफवाह ने किया संस्था को परेशान:
सुबह-सुबह एक व्यक्ति के झील में कूदने की अफवाह ने सहारा जनसेवा के सदस्यों को काफी परेशान किया। संस्था के कंट्रोल रूम में उक्त सूचना प्राप्त होने पर संस्था सदस्य हरबंस सिंह, जग्गा सिंह, विक्की और गुरबिंद्र बिंदी राहत सामग्री सहित मौके पर पहुंचे और व्यक्ति की तलाश शुरू की लेकिन घंटों जद्दोजहद करने के बावजूद कोई सफलता नहीं मिली। सहारा जनसेवा के प्रभारी विजय गोयल ने बताया कि हो सकता है कि किसी ने संस्था सदस्यों को अप्रैल फूल बनाया हो मगर वह फिर भी
अपनी कोशिश जारी रखेंगे। उन्होंने कहा कि लोगों को उक्त प्रकार के मजाक कदापि नहीं करने चाहिए। इससे संस्था की गतिविधियां प्रभावित होती है। झूठे मामले में संस्था का व्यर्थ समय बर्बाद होने कारण कई बार वास्तव में मुसीबत में फंसा इंसान मदद से वंचित रह जाता है।

मीडिया कर्मी भी हुए परेशान:

अप्रैल फूल के चलते मीडिया कर्मी भी खासे परेशान हुए। कभी कहीं से आग लगने की खबर आती रही तो कभी कहीं गोली चलने को लेकर भगदड़ मचने की अफवाह उठी। उक्त मामलों को कवर करने पहुंचे मीडिया कर्मियों को बिना वजह परेशानी उठानी पड़ी। सुबह से लेकर सायं तक उक्त प्रकार की अफवाहों कारण मीडिया फोटोग्राफर भाग-दौड़ करते देखे गए।

सोशल नैटवर्किंग साइटों पर भी जारी रहा हंसी का दौर:
अप्रैल फूल के चलते सोशल नैटवर्किंग साइटों पर हंसी का दौर जारी रहा। फेसबुक, टिवटर, व्हाट्सअप के माध्यम से लोगों ने अपने दोस्तों को उल्लू बनाने की कोशिशें की। कई मामलों में वह सफल भी हुए लेकिन कुछ मामलों में उनका खुद का ही अप्रैल फूल बन गया। कुल मिलाकर उक्त दिन इस भागदौड़ व तनाव भरी जिंदगी में लोगों के चेहरों पर मुस्कान जरूर बिखेर गया।

विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You