विधायक हलका बस्सी पठाना से जस्टिस निर्मल सिंह का रिपोर्ट कार्ड

  • विधायक हलका बस्सी पठाना से जस्टिस निर्मल सिंह का रिपोर्ट कार्ड
You Are HerePunjab
Thursday, December 15, 2016-11:52 AM

हलका विधायक जस्टिस निर्मल सिंह बस्सी पठाना ने कहा कि टिकट कहां से देनी है और किसे देनी है यह सब हाईकमान की मर्जी है। और बात रही विधानसभा हलका बस्सी पठाना की तो इसमें रिकार्डतोड़ विकास हुआ है जिनमें मुख्य तौर पर हलके के 6 गांव में कम्युनिटी हाल, बस्सी पठाणों का मुख्य बस स्टैंड, हलके की सड़कें, गांवों में बड़े स्तर पर पखाने और हर गरीब को मिलने वाली आटा -दाल स्कीम के अलावा और बहुत  सारे विकास के काम हुए हैं। हर व्यक्ति को खुश करना हर किसी के बस की बात नहीं होती, फिर भी यदि कोई काम अधूरा रह गया है तो उसे पूरा करने के लिए शिरोमणी अकाली दल ने दरबारा सिंह गुरु को विधानसभा हलका बस्सी पठाना से सेवा करने का मौका दिया है, जो पूरे तन-मन से हलके के लोगों की सेवा करेंगे।

लोगों ने इस तरह जताई प्रतीक्रिया
महेन्द्र सिंह जटाना ब्लॉक प्रधान भारतीय किसान यूनियन लक्खोवाल खमाणों ने कहा कि हम अपने विधानसभा हलका बस्सी पठाना में काम करन वाले नुमाइंदे चाहते हैं क्योंकि पिछली बार जस्टिस निर्मल सिंह को विधायक बना कर विधानसभा में भेजा गया था, जिन इलाके को ज्यादा तव्वजों नहीं दी गई। हम किसान यूनियन की तरफ से बहुत बार सामाजिक मांगें रखीं परन्तु वह पूरी नहीं हुई, जिन में आवारा पशुओं का मामला, मुख्य मार्ग एक्वायर होने के बाद किसानों को मुआवज़ा, जो आज तक किसानों को नहीं मिला और खमाणों शहर की मुख्य मांग पानी की निकासी, जो आज तक किसी ने पूरी नहीं की, जिस कारण आज भी गंदा पानी सड़क के दोनों तरफ खड़ा है, शामिल हैं।

सुखदेव सिंह गग्गड़वाल ब्लॉक प्रधान शिरोमणी अकाली दल अमृतसर ने कहा कि सभी हलके में कोई भी सड़क विकास नहीं हुआ। गांवों के छप्पड़ सफ़ाई को तरस रहे हैं। मेरे गांव गग्गड़वाल को केंद्र सरकार ने 2लाख रुपए की अनुदान राशि जारी की थी, जो तालाब को खाली करने भाव पानी निकालने पर ही ख़र्च आ गई। गग्गड़वाल से अमराले को जाती 1किलोमीटर सड़क पर 10 साल पहले मनरेगा मज़दूरों ने पत्थर डाला था, जो सड़क में से निकल कर साथ लगते खेतों में बिखर गया, जिससे लोगों की फसलों की बर्बादी तो हुई ही है और सड़क की हालत आज भी उसी तरह ही है। सबसे बुरा हाल सिवरेज का है, जो लंबे समय से इसी तरह लटक रहा है।

बलमजीत सिंह पूर्व प्रधान नगर पंचायत खमाणों का कहना है कि हलका विधायक निर्मल सिंह को इसलिए हलका छोड़ कर जाना पड़ा क्योंकि उससे उसके हलके के लोग संतुष्ट नहीं थे। और तो और हलका पूर्व विधायक अपनी, दोनों ज़िला परिषद सीटे हार गए और खमाणों की काऊंसलर मतदान में सभी वार्डों में अकाली उम्मीदवार ही नहीं मिले। अकाली विधायक निर्मल सिंह सिर्फ़ एक सड़क ही बना सका, जो विधानसभा हलका बस्सी पठाना से खमाणों को आपस में जोड़ती है। मेरे प्रधान होते मैं पीने वाले पानी का प्रोजेक्ट लाया था, जिस को हलका विधायक आज तक पूरा नहीं कर सके। खमाणों निवासियों ने सरकार को स्टेडियम के लिए ज़मीन मुहैया करवाई परन्तु हलका विधायक खमाणों निवासियों के लिए स्टेडियम नहीं बना सके।

एडवोकेट तजिन्दर सिंह कंग ने कहा कि विधायक निर्मल सिंह ने हलके विकास के कार्यों पर ज्यादा तव्वजों नहीं दी और खमाणों से खमाणों कलां को जाने वाली सड़क बनाने के लिए मुझे RTI दायर करनी पड़ी, जिस के बाद यह सड़क बनाई गई। हलके को एक बढ़िया विधायक की ज़रूरत है, जो सभी निजी लाभ से ऊपर उठकर किसी ग्रुप या वर्गवाद का शिकार न होकर ईमानदारी और सेवा भावना के साथ काम करे।

विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You