मैं सिर्फ अपने साथ हुई नाइंसाफी के खिलाफ आवाज उठा रही थी: पूनिया

  • मैं सिर्फ अपने साथ हुई नाइंसाफी के खिलाफ आवाज उठा रही थी: पूनिया
You Are HereSports
Wednesday, August 21, 2013-10:29 PM

नई दिल्ली: चक्का फेंक एथलीट कृष्णा पूनिया ने आज उन आरोपों को खारिज किया कि उन्होंने प्रतिष्ठित खेल रत्न पुरस्कार के लिए लाबी की थी, उन्होंने कहा कि वह सिर्फ उनके खिलाफ हुए ‘अन्याय’ के खिलाफ अपनी आवाज उठा रही थीं।

पूनिया ने कहा, ‘‘मैं साफ करना चाहती हूं कि मैं कोई भी लाबिंग नहीं कर रही थी। मेरे साथ अन्याय हुआ है और मैं सिर्फ उसी के खिलाफ अपनी आवाज उठा रही थी। इसे लाबिंग नहीं कहा जा सकता। यह गलत है। ’’

खेल रत्न चयन पैनल की सदस्य और शीर्ष निशानेबाज अंजलि भागवत के खुलासे के बाद इस एथलीट ने अपनी प्रतिक्रिया दी है। भागवत ने खुलासा किया था कि पूनिया ने समिति की बैठक से एक दिन पहले उन्हें फोन कर इस सम्मान के लिये लाबिंग की थी।

पूनिया ने कहा, ‘‘पहले तो मैं यह कहना चाहती हूं कि अगर मुझे लाबिंग करनी ही होती तो खेल मंत्री राजस्थान से हैं और मैं भी। अगर मुझे लाबिंग ही करनी होती तो मैं सूची घोषित होने से पहले ही यह कर चुकी होती। ’’

उन्होंने कहा, ‘‘मुझे अपने प्रदर्शन पर भरोसा है और मुझे किसी तरह की लाबिंग करने की जरूरत नहीं है। 2003 में जब के एम बीनामोल और अंजलि भागवत को खेल रत्न मिला था तो क्या भागवत ने लाबिंग की थी? ’’

पूनिया ने यह भी कहा कि वह पुरस्कार का राजनीतिकरण नहीं कर रही थी। उन्होंने कहा, ‘‘मैं पुरस्कार का राजनीतिकरण नहीं कर रही हूं। जैसा कि मैंने पहले कहा था, अगर मुझे राजनीतिकरण करना होता तो मैं सूची के घोषित होने से पहले ही कर सकती थी। ’’

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!

Recommended For You