ध्यानचंद को भारत रत्न मिलना चाहिए: हरविंदर

  • ध्यानचंद को भारत रत्न मिलना चाहिए: हरविंदर
You Are HereSports
Friday, August 30, 2013-9:31 AM

नई दिल्ली: ओलम्पिक में स्वर्ण जीत चुकी भारतीय हॉकी टीम के सदस्य रह चुके हरविंदर सिंह ने गुरुवार को कहा कि हॉकी के जादूगर मेजर ध्यानचंद को देश के सर्वोच्च नागरिक सम्मान भारत रत्न से नवाजने का यह सबसे माकूल समय है।

 

राष्ट्रीय खेल दिवस अवसर पर ध्यानचंद स्टेडियम में आयोजित एक कार्यक्रम के दौरान हरविंदर ने आईएएनएस से बातचीत में कहा, ‘‘ध्यानचंद का भारतीय हॉकी में जो योगदान रहा है, उसे देखते हुए उन्हें भारत रत्न जरूर दिया जाना चाहिए।’’ हरविंदर 1964 ओलम्पिक में स्वर्ण और 1972 में कांस्य पदक जीतने वाली टीम का हिस्सा रहे हैं।

 

हरिवंदर ने कहा, ‘‘मैं भाग्यशाली हूं कि ध्यानचंद ने मुझे प्रशिक्षित किया है। हम उन्हें दद्दा कहकर बुलाते थे। उनकी टिप्स ने मेरे करियर की दिशा बदल दी थी। दद्दा ने मेरे से एक बार कहा था कि मैं गेंद से दूर रहूं क्योंकि मेरे पास रफ्तार है। इससे मुझे काफी फायदा हुआ और मैंने इसी की बदौलत 1964 ओलम्पिक में सबसे अधिक गोल किए।’’

 

हरिवंदर ने कहा कि ध्यानचंद ने अपनी उपलब्धियों को कभी अपने ऊपर हावी नहीं होने दिया। वह हमेशा जमीन से जुड़े रहे। वह सही मायने में हॉकी खिलाडिय़ों के आदर्श हैं।
 


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You