क्रिकेट के बिना जिंदगी होगी बेहद मुश्किल: सचिन

  • क्रिकेट के बिना जिंदगी होगी बेहद मुश्किल: सचिन
You Are HereSports
Friday, October 11, 2013-11:25 AM

नई दिल्ली: क्रिकेट का भगवान सचिन तेंदुलकर ने गुरुवार को टेस्ट क्रिकेट से संन्यास लेने की घोषणा कर दी है। सचिन ने 40 साल की उम्र में खेल पर विराम का ऐलान कर दिया। मुंबई में वेस्ट इंडीज के खिलाफ 14 नवंबर को 200वां टेस्ट खेलने के बाद सचिन टेस्ट क्रिकेट से संन्यास ले लेंगे। जाहिर है एक नया रिकॉर्ड भी उनके नाम जुड़ जाएगा, सबसे अधिक 200 टेस्ट खेलने का रिकॉर्ड।

अपने रिटायरमेंट संदेश में सचिन ने क्रिकेट से अपने इश्क का खुला इजहार भी किया, कहा कि क्रिकेट के बिना जिंदगी बेहद मुश्किल होगी। सचिन ने अपने संदेश में कहा, अपनी सारी जिंदगी मेरे पास सिर्फ एक सपना था, भारत के लिए खेलना। पिछले 24 साल से हर रोज मैं यही सपना जी रहा हूं। क्रिकेट के बिना जिंदगी की कल्पना करना मेरे लिए मुश्किल है क्योंकि मैंने 11 साल की उम्र से बस यही एक काम किया है।

जाहिर है क्रिकेट में डूबे इस खिलाड़ी के लिए क्रिकेट से जुदा होना बेहद मुश्किल फैसला था। लेकिन सचिन को लगा कि यही वक्त है जब खेल छोड़ देना चाहिए। हालांकि, वो ऐसे मुकाम पर हैं जहां शायद ही कभी कोई क्रिकेटर पहुंच सका। इसलिए शायद भारी मन से सचिन ने बीसीसीआई अध्यक्ष एन श्रीनिवासन को फोन किया और अनुरोध किया कि उनकी ओर से रिटायरमेंट का ये संदेश जारी कर दिया जाए। राजीव शुक्ला ने सचिन के संन्यास पर कहा कि वो मुझसे अकसर कहते थे कि मैं एक दिन उठूंगा और ये फैसला ले लूंगा। और आज मुझे उन्होंने फोन किया और कहा कि मुझे लग रहा है मुझे क्रिकेट छोड़ देना चाहिए।

हमने उन्हें काफी बार कप्तानी के लिए कहा। लेकिन वो अपना निर्णय खुद लेते है। सचिन ने अपने संदेश में बेहद दुख भरे लहजे में क्रिकेट से विदाई का संदेश अपने करोड़ों फैन्स को दिया है। सचिन ने संदेश में कहा कि ये मेरी जिंदगी का सबसे बड़ा सम्मान था कि मैं अपने देश के लिए पूरी दुनिया में खेला। मैं अब अपने घरेलू जमीन पर अपने 200वें टेस्ट में खेलने की तैयारी कर रहा हूं। यही मेरा आखिरी टेस्ट होगा।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You