गुट्टा ने बाई से कहा, नकारात्मक रूप में नहीं लें मेरे सुझाव

  • गुट्टा ने बाई से कहा, नकारात्मक रूप में नहीं लें मेरे सुझाव
You Are HereSports
Saturday, October 12, 2013-1:52 PM

हैदराबाद: बैडमिंटन खिलाड़ी ज्वाला गुट्टा ने आज कहा कि राष्ट्रीय महासंघ को उनके सुझावों को आलोचना के तौर पर नहीं लेना चाहिए क्योंकि वह उनके खिलाफ नहीं है तथा उनकी बेबाक टिप्पणियों के लिये आजीवन प्रतिबंध लगाना मूर्खता होगी। भारतीय बैडमिंटन संघ (बाई) की अनुशासन समिति ने गुट्टा पर अनुशासनात्मक आधार पर आजीवन प्रतिबंध लगाने की सिफारिश की है लेकिन दिल्ली उच्च न्यायालय ने महासंघ से अंतिम फैसला आने तक इस खिलाड़ी को टूर्नामेंट में खेलने की अनुमति देने के लिये कहा है।

गुट्टा से जब पूछा गया कि क्या उनका मुखर होना उनके लिये परेशानी खड़ा कर रहा है, उन्होंने पीटीआई से कहा, ‘‘इसमें गलत क्या है? बेबाक होने का मतलब आजीवन प्रतिबंध? यह वास्तव में मूर्खता है। मैंने कहा कि ऐसा कैसे हुआ। मैं शब्दों को तोड़ मरोड़कर नहीं पेश कर सकती। मैं झूठ नहीं बोल सकती।’’ उन्होंने कहा, ‘‘बैडमिंटन मेरा खेल है। मैं इसे शीर्ष पर पहुंचते हुए देखना चाहती हूं। मैं दिन में आठ घंटे खेलती हूं। मैं केवल बैडमिंटन खेलना जानती हूं। मैं नहीं जानती कि राजनीति कैसे खेली जाती है। मैं कुछ चीजों को लेकर कभी कूटनीतिक नहीं हो सकती। यदि वे सोचते है कि मैं उनके खिलाफ कुछ करने की कोशिश कर रही हूं तो वह वास्तव में मूर्खता कर रहे हैं। मैं दिन भर में बैडमिंटन खेलने के अलावा और कुछ नहीं करती।’’

गुट्टा ने कहा कि उन्हें नहीं पता कि बाई ने उन्हें दुश्मनों की सूची में क्यों रखा। उन्होंने कहा, ‘‘मैं नहीं जानती। मेरा शुरू से मानना रहा है कि यदि संघ में सच्चे लोग हैं जो केवल खेल को बढ़ावा देना चाहते हैं तो फिर मैंने जो कुछ कहा उसे आलोचना के तौर पर नहीं लिया जाना चाहिए। मैं राष्ट्रीय खिलाड़ी, अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ी हूं जिसने कई पदक जीते हैं। देश का मान बढाया है। आप इसे नकारात्मक और आलोचना के रूप में क्यों ले रहे हैं। इसे सुझाव के रूप में लो।’’

उन्होंने कहा, ‘‘मुझे सुझाव देने का अधिकार है। यह मेरा खेल है। मैं बैडमिंटन खिलाड़ी हूं और आज मैं जो कुछ हूं वह बैडमिंटन की वजह से हूं। मैंने केवल सुझाव दिये। आपने उन्हें नकारात्मक रूप से क्यों लिया।’’ गुट्टा ने कहा कि यदि बाई उन पर आजीवन प्रतिबंध लगाता है तो वह इसके खिलाफ जंग लड़ेगी। उन्होंने कहा, ‘‘मैं इसके खिलाफ जंग लड़ूंगी। मेरे पास अदालत में जाने के अलावा कोई विकल्प नहीं था क्योंकि यह हास्यास्पद है। हर कोई इस पर हंस रहा है। मैं इतना अधिक समर्थन देखकर खुश हूं।’’ गुट्टा ने अपनी प्रविष्ठियों के बारे में कहा कि उन्हें पता चला है कि चाइना ओपन के लिये भी उनका नाम नहीं भेजा गया है।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You