ईडन और वानखेड़े पर ‘हजारी’ बन सकते हैं तेंदुलकर

  • ईडन और वानखेड़े पर ‘हजारी’ बन सकते हैं तेंदुलकर
You Are HereSports
Friday, October 18, 2013-2:15 PM

नई दिल्ली: शतकों के बादशाह सचिन तेंदुलकर से उम्मीद की जा रही है कि वह अपने आखिरी दो टेस्ट मैचों में सैकड़े जमाएंगे और यदि वह ऐसा करने में सफल रहते हैं तो फिर कोलकाता के ईडन गार्डन्स और मुंबई के वानखेड़े स्टेडियम में अपने कुल रनों की संख्या 1000 के पार भी पहुंचा सकते हैं।

तेंदुलकर ने वेस्टइंडीज के खिलाफ अगले महीने इन दोनों स्टेडियमों पर होने वाले मैचों के बाद संन्यास लेने की घोषणा की है। इनमें से पहला टेस्ट मैच ईडन गार्डन्स पर छह से दस नवंबर के बीच खेला जाएगा जहां इस स्टार बल्लेबाज ने अब तक 12 मैचों में 47.88 की औसत से 862 रन बनाये हैं। इस तरह से तेंदुलकर को इस ऐतिहासिक मैदान पर 1000 या इससे अधिक रन बनाने वाला दूसरा बल्लेबाज बनने के लिये केवल 138 रन चाहिए।

वीवीएस लक्ष्मण ने ईडन पर दस मैचों में 1217 रन बनाये हैं जो कि किसी एक मैदान पर सर्वाधिक रन बनाने का भारतीय रिकार्ड है। तेंदुलकर ने ईडन पर दो शतक और छह अर्धशतक जमाये हैं। वह इस मैदान पर सर्वाधिक रन बनाने वाले बल्लेबाजों की सूची में लक्ष्मण और राहुल द्रविड़ (962 रन) के बाद तीसरे नंबर पर हैं। तेंदुलकर को अपने घरेलू मैदान वानखेड़े स्टेडियम में 1000 टेस्ट रन पूरे के लिये केवल 153 रन चाहिए। इस मैदान पर यह स्टार बल्लेबाज 14 से 18 नवंबर के बीच अपना 200वां टेस्ट मैच खेलेगा।

तेंदुलकर ने वानखेड़े में अब तक दस टेस्ट मैचों की 18 पारियों में 47.05 की औसत से 847 रन बनाये हैं जिसमें एक शतक और सात अर्धशतक शामिल हैं। वानखेड़े पर सर्वाधिक रन बनाने का रिकार्ड मुंबई के ही एक अन्य लिटिल मास्टर सुनील गावस्कर के नाम पर है। गावस्कर ने अपने घरेलू मैदान पर 11 मैचों में 1122 रन बनाये हैं। गावस्कर ने इसके अलावा चेन्नई के एम ए चिदंबरम चेपक स्टेडियम में भी 1018 रन बनाये हैं। यदि तेंदुलकर ईडन और वानखेड़े दोनों में 1000 रन बनाने में कामयाब रहते हैं तो फिर वह गावस्कर के बाद दूसरे भारतीय बल्लेबाज बन जाएंगे जिनके नाम पर दो मैदानों पर 1000 से अधिक रन बनाने का रिकार्ड दर्ज होगा।

वानखेड़े में गावस्कर के बाद सर्वाधिक रन तेंदुलकर ने ही बनाये हैं। रिकार्डों के बादशाह तेंदुलकर अपने करियर में कभी किसी एक मैदान पर 1000 रन पूरे नहीं कर पाये। उनका अब तक सबसे बेहतर रिकार्ड चेन्नई के चेपक स्टेडियम में है जहां उन्होंने दस मैचों में 88.18 की औसत से 970 रन बनाये हैं। इसमें पांच शतक और दो अर्धशतक शामिल हैं। चेपक के बाद बेंगलूर के एम चिन्नास्वामी स्टेडियम का नंबर आता है जिसमें तेंदुलकर ने नौ मैचों में 869 रन अपने नाम पर लिखवाये।

ईडन गार्डन्स इस सूची में अभी तीसरे और वानखेड़े चौथे स्थान पर है। आस्ट्रेलिया के सिडनी क्रिकेट ग्राउंड पर तेंदुलकर के बल्ले से केवल पांच टेस्ट मैचों में 785 रन निकले हैं जिसमें नाबाद 241 रन की ऐतिहासिक पारी भी शामिल है। उन्होंने दिल्ली के फिरोजशाह कोटला स्टेडियम में 759 रन, पीसीए स्टेडियम मोहाली में 767 रन, कोलंबो के सिंहलीज स्पोट्र्स काम्पलेक्स में 698 रन, नागपुर के विदर्भ सीए मैदान पर 679 रन और अहमदाबाद के सरदार पटेल मोटेरा स्टेडियम पर 642 रन बनाये हैं।

चेपक के बाद तेंदुलकर ने सर्वाधिक चार शतक कोलंबो के सिंहलीज स्पोट्र्स काम्पलेक्स मैदान पर लगाये हैं। उन्होंने सिडनी, विदर्भ सीए मैदान और मोटेरा पर तीन-तीन शतक जमाये हैं।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You