सचिन ‘नर्वस नाइंटीज’ के भी शहंशाह

  • सचिन ‘नर्वस नाइंटीज’ के भी शहंशाह
You Are HereCricket
Tuesday, November 12, 2013-11:32 AM

नई दिल्ली : दुनिया का हर बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर के तमाम रिकार्डों के करीब पहुंचना चाहता है लेकिन इस स्टार बल्लेबाज के नाम पर सर्वाधिक बार ‘नर्वस नाइंटीज’ का शिकार बनने का ऐसा रिकार्ड भी दर्ज है जिसको शायद कोई अन्य क्रिकेटर हासिल नहीं करना चाहेगा। टैस्ट और एकदिवसीय क्रिकेट दोनों में ही तेंदुलकर सर्वाधिक बार 90 और 99 रन के बीच आऊट हुए हैं। वह टैस्ट मैचों में 10 और एकदिवसीय मैचों में 18 बार (एक बार नाबाद सहित) नर्वस नाइंटीज के शिकार बने। इस तरह से शतकों का शतक पूरा करने वाले तेंदुलकर अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में अब तक 28 बार सैंकड़े के करीब पहुंचने के बावजूद सैंकड़ा पूरा नहीं कर पाए।

तेंदुलकर के इस रिकार्ड तक शायद ही कोई बल्लेबाज पहुंच पाए क्योंकि उनके बाद राहुल द्रविड़ (14 बार) दूसरे नंबर पर काबिज हैं। द्रविड़ अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट को अलविदा कह चुके हैं। जो खिलाड़ी अभी खेल रहे हैं उनमें जाक कैलिस 13 बार नर्वस नाइंटीज के शिकार बने हैं। जहां तक टैस्ट मैचों के रिकार्ड का सवाल है तो तेंदुलकर के अलावा द्रविड़ और आस्ट्रेलिया के स्टीव वा भी 10-10 बार 90 और 99 रन के बीच पैवेलियन लौटे। एकदिवसीय अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में हालांकि तेंदुलकर 18 बार शतक से चूक गए थे। उनके बाद ग्रीम फ्लावर, नाथन एस्टल और अरविंद डीसिल्वा का नंबर आता है जो 9 अवसरों पर शतक बनाने से वंचित रह गए थे। तेंदुलकर वनडे में एक बार 96 रन बनाकर नाबाद भी रहे थे।

तेंदुलकर अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में पाकिस्तान और इंगलैंड के खिलाफ सर्वाधिक 7-7 बार नर्वस नाइंटीज के शिकार बने। इसके बाद श्रीलंका का नंबर आता है जिसके खिलाफ 5 अवसरों पर वह शतक बनाने से चूके। इनमें से एक अवसर पर वह नाबाद भी रहे। यदि तेंदुलकर शतक के करीब पहुंचकर नहीं चूके होते तो इस समय उनके नाम पर दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ 4, आस्ट्रेलिया के खिलाफ 3 और वैस्टइंडीज के खिलाफ 2 और शतक दर्ज होते।  तेंदुलकर के लिए 2007 ऐसा साल रहा जबकि वह 7 अवसरों पर शतक पूरा नहीं कर पाए थे। उस वर्ष वह 7 बार नर्वस नाइंटीज के शिकार बने।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You