तेजी और उछाल से तालमेल बिठाना बड़ी चुनौती: धोनी

  • तेजी और उछाल से तालमेल बिठाना बड़ी चुनौती: धोनी
You Are HereSports
Thursday, December 05, 2013-1:45 AM

जोहानिसबर्ग: भारतीय कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने आज कहा कि दक्षिण अफ्रीका की परिस्थितियों में तेजी और उछाल से सामंजस्य बिठाना उनकी युवा टीम के लिए बड़ी चुनौती होगी जिसे यहां तीन वनडे और दो टेस्ट मैच खेलने हैं।

धोनी ने पहले वनडे की पूर्व संध्या पर कहा, सबसे बड़ी चुनौती तेजी और उछाल से सामंजस्य बिठाना है। यदि आप अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में नए हो तो यह बड़ी चुनौती बन जाती है। इसके पीछे वजह यह है कि भारत में सर्वश्रेष्ठ विकेट पर भी आपको इस तरह की तेजी और उछाल नहीं मिलती।

उन्होंने कहा, इसलिए जिन खिलाडिय़ों ने अभी अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में पदार्पण किया हो उनके लिये यह थोड़ा मुश्किल हो जाता है। धोनी को हालांकि विश्वास है कि उनकी टीम में कुछ ऐसे खिलाड़ी हैं जिन्हें अंतरराष्ट्रीय स्तर का अनुभव है। उन्होंने कहा, लेकिन हमारे पास कुछ खिलाड़ी ऐसे हैं जो पिछले कुछ सत्र से खेल रहे हैं और उन्होंने दुनिया भर में अच्छा प्रदर्शन किया है। जब आप उसी मैदान पर खेलते हो तो आपको पता होता है कि परिस्थितियां कैसी होंगी और इससे फायदा मिलता है। आखिर में अनुभव मायने रखता है।

इस श्रृंखला में भारतीय बल्लेबाजों और दक्षिण अफ्रीकी गेंदबाजों के बीच संघर्ष देखने को मिलेगा। धोनी ने कहा, बल्लेबाजों के खिलाफ हमेशा रणनीतियां बनायी जाती हैं। बल्लेबाज भी गेंदबाजों से निबटने के लिये खुद की रणनीति बनाते हैं। मुख्य चुनौती यह है कि आप भिन्न परिस्थितियों के अनुरूप अपना खेल कैसे ढालते हो। रणनीतियों से अधिक महत्वपूर्ण यह है कि कौन ज्यादा रन बनाता है और कौन अधिक विकेट लेता है। भारतीय गेंदबाजी को दक्षिण अफ्रीका की तुलना में कमजोर माना जा रहा है लेकिन धोनी ने कहा, ‘‘महत्वपूर्ण यह है कि आप परिस्थितियों का कैसा फायदा उठाते हो।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You