हॉकी विश्व लीग: न्यूजीलैंड को हराकर नीदरलैंड्स चैम्पियन

  • हॉकी विश्व लीग: न्यूजीलैंड को हराकर नीदरलैंड्स चैम्पियन
You Are HereSports
Sunday, January 19, 2014-3:03 AM

नई दिल्लीः नीदरलैड्स ने मेजर ध्यानचंद नेशनल स्टेडियम में शनिवार को खेले गए एकतरफा खिताबी मुकाबले में न्यूजीलैंड को 7-2 से हराकर हीरो हॉकी विश्व लीग के पहले संस्करण का खिताब जीत लिया। न्यूजीलैंड को रजत पदक मिला जबकि आस्टे्रलिया को 2-1 से हराने वाली इंग्लिश टीम को कांस्य पदक मिला। विश्व की तीसरी और सातवीं वरीय कीवी टीम के बीच फाइनल मुकाबला एक लिहाज से पहले से ही एकतरफा माना जा रहा था। वैसे तो इस टूर्नामेंट में कई उलटफेर हुए और आस्टे्रलिया तथा जर्मनी जैसी दिग्गज टीमें धूल चाटने पर मजबूर हुईं लेकिन न्यूजीलैंड ने इस दौरान सेमीफाइनल में इंग्लैंड को हराने के अलावा कोई चमत्कार नहीं किया।

ऐसे में उसका फाइनल में पहुंचना अपने आप में चमत्कार माना जा रहा था। दूसरी ओर, नीदरलैंड्स ने पूल स्तर से लेकर सेमीफाइनल तक बेहतरीन खेल दिखाया। पहले मैच में अर्जेंटीना से हारने के बाद इस टीम ने विश्व चैम्पियन आस्ट्रेलिया जैसी मजबूत टीम को दो बार हराया और फिर जर्मंनी को एक बार पटखनी दी। ऐसे में फाइनल में नीदरलैंड्स की जीत पर सबने दांव लगाया। हुआ भी यही। 17वें मिनट में खाता खोलने के बाद ‘ऑरेंजी’ नाम से मशहूर विश्व की तीसरी वरीय टीम ने पीछे मुड़कर नहीं देखा और 23वें तथा 35वें मिनट में किए गए गोलों की मदद से मध्यांतर तक 3-0 की बढ़त हासिल कर ली।

मध्यांतर के बाद नीदरलैंड्स ने 36वें मिनट में अपना चौथा गोल किया। कीवी टीम ने 37वें मिनट में अपना पहला गोल किया लेकिन इससे नीदरलैंड्स के खेल पर कोई असर नहीं पडा़। उसने इसके बाद 45वें मिनट में अपना पांच गोल दागते हुए स्कोर 1-5 कर दिया, जो उसे जीत दिलाने के लिए काफी रहा। कीवी टीम ने हालांकि 52वें मिनट में गोल करते बढ़त कम करने की कोशिश की लेकिन कोई फायदा नजर नहीं आया क्योंकि 59वें मिनट में नीदरलैंड्स की ओर से एक और गोल हुआ, जिसके बाद स्कोर 6-2 हो गया। रही-सही कसर 61वें  मिनट में पूरी हो गई, जब नीदरलैंड्स ने अपना सातवां गोल कर दिया।

नीदरलैंड्स टीम के लिए सी. जोंकर ने 17वें, 35वें और 61वें मिनट में गोल किए जबकि रोजियर हॉफमैन ने 45वें, बॉब्ब वोग्द ने 36वें, बिली बाकेर ने 23वें तथा 59वें मिनट में गोल किए। कीवी टीम की ओर से स्टीव एडवड्र्स ने 37वें और 52वें मिनट में गोल किए। जोंकर तीसरे गोल के साथ टूर्नामेंट के दूसरे सफल गोलकर्ता बने। पूल स्तर पर नीदरलैंड्स ने एक मैच जीता था जबकि उसका एक मैच ड्रॉ रहा था। एक मैच में उसे हार मिली थी। पहले पूल मैच में नीदरलैंड्स को अर्जेटीना से 2-5 से हार मिली थी लेकिन दूसरे मैच में नीदरलैंड्स ने विश्व चैम्पियन आस्टे्रलिया को 1-0 से हराया था। इसके बाद तीसरे पूल मैच में नीदरलैंड्स को बेल्जियम से 3-3 से ड्रॉ खेलना पड़ा था।

क्वार्टर फाइनल में नीदरलैंड्स ने विश्व चैम्पियन जर्मनी को 2-1 से हराया और फिर सेमीफाइनल में आस्टे्रलिया को 4-3 से पराजित किया। दूसरी ओर, कीवी टीम ने पूल स्तर पर एक मैच जीता था जबकि दो मैचों में उसे हार मिली थी। अपने पहले ही मैच में कीवी टीम को जर्मनी से 1-6 से हार मिली थी लेकिन इसे निराश होने की जगह इस टीम ने दूसरे मैच में मेजबान भारत को 3-1 से हराया था। तीसरे मैच में इंग्लैंड ने उसे 5-1 से हराया। क्वार्टर फाइनल में जर्मनी ने अर्जेंटीना को पेनाल्टी शूटआउट में 4-3 से हराया। निर्धारित समय तक दोनों टीमें 1-1 की बराबरी पर थीं। इसके बाद सेमीफाइनल में इस टीम ने इंग्लैंड को पेनाल्टी शूटआउट में 7-6 से हराकर पिछली हार का हिसाब बराबर किया। निर्धारित समय तक दोनों का स्कोर 3-3 था।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You