एक मजबूत खिलाड़ी बनकर ही कप्तानी कर सकता हूं: मैकुलम

  • एक मजबूत खिलाड़ी बनकर ही कप्तानी कर सकता हूं: मैकुलम
You Are HereSports
Tuesday, February 18, 2014-3:02 PM

वेलिंगटन: न्यूजीलैंड के इतिहास में तिहरा शतक लगाने वाले पहले खिलाड़ी बने कप्तान ब्रैंडन मैकुलम ने मंगलवार को भारत के खिलाफ टेस्ट सीरीज जीतने के बाद कहा कि टीम का नेतृत्व करने के लिए मजबूत खिलाड़ी होना जरूरी होता है। मैकुलम ने दूसरे टेस्ट के आखिरी दिन अपने तिहरे शतक की कामयाबी को पूरा किया और 302 रन बनाए। भारत जैसी मजबूत टीम के खिलाफ न्यूजीलैंड को जीत दिलाने के लिए काफी दृढ निश्चय दिख रहे कीवी कप्तान ने लगातार दो दिन 775 मिनट क्रीज पर बिताकर 559 गेंदों का सामना किया और 32 चौकों और चार छक्कों की मदद से 302 रन बनाए।

मैकुलम ने मैच के बाद अपनी उपलब्धि पर खुशी जताते हुए कहा ‘मुझे लगता है कि कप्तान को हमेशा ही आगे बढकर टीम का नेतृत्व करना होता है। मैं हमेशा से ऐसा करना चाहता था। टीम की कप्तानी करना उस समय कठिन होता है जब आप रन नहीं बना रहे होते हैं। टीम को ऐसे कप्तान की जरूरत होती है जो खुद एक मजबूत खिलाड़ी हो।’ उन्होंने अपने तिहरे शतक के बारे में कहा ‘जब मैं रन नहीं बना रहा था तब भी मुझे खुद पर विश्वास था। मुझे यकीन था कि मेहनत करने से मैं जरूर अच्छा प्रदर्शन कर पाऊंगा। इससे मुझे कप्तानी करना भी आसान हो जाएगा। वैसे भी इस मैच में हमने काफी उतार चढाव देखे थे इसलिए फिलहाल हम इस पल का मजा लेंगे। यह मेरे लिए बेहद ही खास पल है।’

इसी के साथ 32 वर्षीय मैकुलम दुनिया के 28वें खिलाड़ी बन गए हैं जिन्होंने एक पारी में 300 से अधिक टेस्ट रन बनाए हैं। एक टेस्ट पारी में सर्वाधिक रन बनाने का रिकार्ड विश्व में वेस्टइंडीज के ब्रायन लारा के नाम दर्ज है जिन्होंने 10 अप्रैल 2004 में इंग्लैंड के खिलाफ पहली पारी में नाबाद 400 रन बनाए थे।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You