धोनी ने कहा अब कम हो गई है भारत-पाक प्रतिद्वंद्विता

  • धोनी ने कहा अब कम हो गई है भारत-पाक प्रतिद्वंद्विता
You Are HereSports
Friday, March 21, 2014-9:20 AM

मीरपुर: जावेद मियादाद और सचिन तेंदुलकर के दिनों से भारत और पाकिस्तान के बीच क्रिकेट मैचों के दौरान कुछ अविस्मरणीय क्षण देखने को मिले जिसमें कुछ रोचक तो कुछ विवादास्पद रहे। यह इस तरह का महत्वपूर्ण मुकाबला होता है जिसका सीमा के दोनों तरफ के क्रिकेट प्रेमी और साथ ही क्रिकेटर भी बेसब्री से इंतजार करते हैं। महान सुनील गावस्कर ने अपनी लोकप्रिय किताब ‘वन डे वंडर्स’ में लिखा था कि पाकिस्तान ऐसी अंतर्राष्ट्रीय टीम है जिसके खिलाफ वह अंपायर की उंगली उठने तक कभी अपना विकेट नहीं छोड़ेंगे चाहे उन्हें यह पता भी हो कि वह आउट हैं। अब वे दिन लद चुके हैं।

विरोधी टीमों के कप्तान महेंद्र सिंह धोनी और मोहम्मद हफीज से पूछिए तो आपको पता चल जाएगा कि भारत-पाक प्रतिद्वंद्विता का तीखापन कम हो गया हालांकि ये दोनों टीमें आईसीसी टूर्नामेंटों से इतर बहुत कम खेलती हैं। धोनी के अनुसार, ‘सही भावना से खेलना’ सीमा लांघने से कहीं अधिक महत्वपूर्ण है जबकि हफीज यह साफ कर देना चाहते हैं कि किसी एक विशेष मैच के बजाए आईसीसी विश्व टी20 का खिताब अधिक अहम है।

इन दोनों चिर प्रतिद्वंद्वी टीमों के बीच मुकाबले की लोकप्रियता कम होने के बारे में पूछे जाने पर धोनी ने कहा, ‘‘हां, भारत बनाम पाकिस्तान मुकाबला हमेशा महत्वपूर्ण रहेगा लेकिन मेरा मानना है कि पिछले कुछ वर्षों से प्रतिद्वंद्विता में कमी आई है। अब आपको पिछली पीढ़ी के खिलाडिय़ों की तरह आपस में उलझने की घटनाएं देखने को नहीं मिलेंगी।’’


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You