मैकेनिक के बेटे ने दिया टीम इंडिया के इस खतरनाक गेंदबाज को चुनौती

  • मैकेनिक के बेटे ने दिया टीम इंडिया के इस खतरनाक गेंदबाज को चुनौती
You Are HereCricket
Friday, October 21, 2016-5:29 PM

नई दिल्ली:  क्रिकेट में लेफ्ट आर्म स्पिन बॉलर की बात की जाए तो जडेजा का नाम ना आए ऐसे कैसे हो सकता है। यह पहले खतरनाक बॉलर है, लेकिन इसको चुनौती देने के लिए एक नया चेहरा सामने आने वाले है जिसका नाम शुभम ठाकुर है।  

दरअसल, छत्तीसगढ़ के शुभम इन दिनों सीके नायडु ट्रॉफी में अपनी गेंदों से सुर्खियों में हैं। उन्होंने इस सीजन में दो मैच खेले हैं और काफी धूम मचाई है। टीम मैनेजर स्वर्ण सिंह कालसी ने बताया कि वे नई बॉल से भी बॉलिंग जबरदस्त बॉलिंग करते हैं और विकेट निकालते हैं। उनका सबसे बड़ा हथियार है बॉल को आश्चर्यजनक रूप से हवा में ड्रिफ्ट कराना। बॉल हवा में ड्रिफ्ट होने के बाद जब गिरती है तो बैट्समैन उनकी बॉल को बड़ी मुश्किल से समझ पाता है। वे कूल माइंड और डिसिप्लिन बॉलर हैं, लेकिन इनका क्रिकेट सफर काफी संघर्षपूर्ण है। 

शुभम के पिता एक मैकेनिक है
शुभम ने बताया कि उनके घर का गुजारा काफी मुश्किल से होता था, उनके पिता मैकेनिक है और बिलासपुर में एक प्राइवेट फर्म में जॉब करते हैं। उनकी सैलरी 11 हजार रुपए महीना है। उन्होंने कहा कि उनके पिता ने उनका पूरा साथ दिया और क्रिकेट के लिए आगे बढ़ने दिया।

अभी तक हम किराए के घर में रहते हैं: शुभम
शुभम ने कहा कि अभी तक हम किराए के घर में रहते हैं और उनके पिता भी पहले क्रिकेटर बनना चाहते थे। उन्होंने छोटे-मोटे लेवल खेला भी, लेकिन नेशनल लेवल तक नहीं पहुंच सके। मुझे भी क्रिकेट पसंद है तो उन्हें लगा कि उनका सपना मेरी वजह से पूरा हो सकता है। इसलिए उन्होंने घर बनाने की अपेक्षा मेरी क्रिकेट कोचिंग को अहमियत दी।

सचिन तेंदुलकर है शुभम का रोल मॉडल
हर बच्चे की तरह शुभम के रोल मॉडल भी सचिन तेंदुलकर हैं। उन्होंने बताया- मैं कभी सचिन सर से मिला तो नहीं हूं, लेकिन उनके क्रिकेट करियर के बारे में पढ़कर और देखकर काफी सीखा है। उनकी कवर ड्राइव मुझे बहुत पसंद है। मैं बैटिंग करते वक्त उन्हें कॉपी भी करता हूं। हालांकि, एक बॉलर के तौर पर मुझे रवींद्र जडेजा, मोंटी पनेसर और डेनियल विटोरी की बॉलिंग अच्छी लगती है। उनसे सीखता हूं।

युवी, शिखर और भज्जी को कर चुके हैं बॉलिंग
शुभम ने बताया कि  मैं उस वक्त काफी सरप्राइज था, जब मुझे आईपीएल के दौरान रायपुर में युवराज सिंह, शिखर धवन, हरभजन सिंह और जेपी डुमिनी जैसे इंटरनेशनल खिलाड़ियों को प्रैक्टिस सेशन में बॉलिंग करने का मौका मिला। खासकर, सिक्सर किंग युवी को। उन्होंने तो मुझे बॉलिंग के टिप्स भी दिए। उन्होंने बताया कि बॉल को कब कितनी फ्लाइट देनी होती है और कैसे विकेट को टारगेट किया जाए।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You