धरती से जल्द ही टकराएगा कचरा बना सैटलाइट!

  • धरती से जल्द ही टकराएगा कचरा बना सैटलाइट!
You Are HereInternational
Friday, November 08, 2013-1:01 PM

न्यूयॉर्क: कचरा बन चुका एक यूरोपीय सैटलाइट धरती की ओर बढ़ रहा है, जो कुछ दिनों में हमारी धरती से टकरा जाएगा। अमेरिकी अखबार न्यूयॉर्क टाइम्स के अनुसार, इससे भी ज्यादा चिंता की बात है कि कचरा बन चुका यह सैटलाइट कब और कहां गिरेगा, किसी को इसकी कोई जानकारी नहीं है, लेकिन इतना मालूम है कि अगर यह रिहायशी इलाकों में गिरा तो जबरदस्त तबाही मचाएगा। धरती की ओर बढ़ते इस खतरे के मद्देनजर दुनियाभर के देशों को इसकी जानकारी दी गई है।

यूरोपीय स्पेस एजेंसी (ईएसए) के स्पेसक्राफ्ट ऑपरेशन मैनेजर रुने फ्लोबेर्गहागन के अनुसार, सतह से 80 किलोमीटर ऊपर 5.3 मीटर लंबा स्पेसक्राफ्ट जल्द टूट जाएगा। लेकिन वायुमंडल की गर्मी और घर्षण के बावजूद इसका एक चौथाई हिस्सा बचा रह जाएगा। इस हिस्से का वजन ही 250 किलो होगा और यह धरती से 25 से 45 टुकड़ों में बिखर कर टकराएगा। इसका सबसे छोटा टुकड़ा 200 पाउंड यानि 90.8 किलो का होगा। यह टुकड़े सैकड़ों किलोमीटर तक फैल सकते हैं।

सैटलाइट के इन वजनी टुकड़ों को देखकर यह अनुमान लगाना जा सकता है कि आखिर इसके टकराने से कितना नुकसान होने वाला है। अंतरिक्ष में यह सैटलाइट 2009 से काम कर रहा था। 4 वर्षों के बाद पिछले अक्तूबर महीने में सैटलाइट का ईंधन खत्म हो गया और यह पृथ्वी के वायुमंडल की तरफ बढ़ने लगा। ईएसए के अनुसार, वायुमंडल में आते ही सैटलाइट के टुकड़े-टुकड़े हो जाएंगे। गर्मी और घर्षण के कारण यह कई हिस्सों में बिखर जाएगा।

रुने फ्लोबेर्गहागन का कहना हैं कि टुकड़ों से इंसान को बहुत कम खतरा है। वह कहते हैं कि आकाश में कड़कने वाली बिजली के किसी इंसान पर गिरने की जितनी संभावना रहती है, उससे भी 65,000 गुना कम आशंका है कि यह टुकड़े किसी इंसान पर गिरेंगे। वैसे इसी साल रूस के चलयाबिंस्क में अंतरिक्ष से आए एक पिंड के टुकड़े गिरे थे। इसकी वजह से 1,000 से ज्यादा लोग जख्मी हुए थे। अंतरिक्ष इंसानी सैटलाइट्स के कचरे से भरा हुआ है। पिछले  50 साल में अंतरिक्ष से आए किसी मानव निर्मित कचरे से इंसान को कोई नुकसान नहीं हुआ है।

हर साल 20 से 40 टन अंतरिक्ष कचरा कहीं न कहीं गिरता है। इसके बावजूद किसी हादसे को टालने के लिए ग्लोबल स्पेस डेब्रीज कोऑर्डिनेटिंग कमिटी इस सैटलाइट पर नजर रख रही है। सैटलाइट के बारे में दुनिया भर के देशों को लगातार जानकारी दी जा रही है। वैज्ञानिकों का कहना है कि एस्टेरॉयड्स या अंतरिक्ष से गिरने वाली चट्टानों के धरती से टकराने का खतरा बढ़ता जा रहा है। साइंस मैगजीन की स्टडी के अनुसार, रूस के चलयाबिंस्क में इस साल गिरे एस्टेरॉयड्स से बड़ी और ज्यादा खतरनाक चट्टानें धरती की ओर तेजी से बढ़ रही हैं।

रूस के चलयाबिंस्क शहर में गिरी चटटान के साढ़े अट्ठारह मील ऊपर फटकर कई टुकड़े हो गए थे। 67,700 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से अंतरिक्ष से धरती की तरफ आई यह चट्टान 62 फीट की थी और इसके विस्फोट से हजारों खिड़कियां और दरवाजे तक नष्ट हो गए थे। इसका सबसे बड़ा हिस्सा एक झील में मिला था, जिसका वजन 650 किलो था।
 


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You