ज्यादा च्युंइगम खाने से बढ़ता है सिरदर्द

  • ज्यादा च्युंइगम खाने से बढ़ता है सिरदर्द
You Are HereInternational
Sunday, December 22, 2013-5:32 PM

तेल अवीव: ऊब से बचने के लिए और खुद को अधिक ऊर्जावान दिखाने के लिए हम अक्सर च्युंइगम का सहारा लेते हैं, लेकिन इस चक्कर में अनजाने ही सिरदर्द मोल ले लेते हैं।

दरअसल इजरायल में तेल अवीव विश्वविद्यालय के मेर मेडिकल सेंटर ने एक नए शोध में इसका खुलासा किया है कि बच्चों और किशारों को च्युंइगम चबाने की आदत होती है, जिससे उनमें सिरदर्द का खतरा बढ़ जाता है।

मेर मेडिकल सेंटर के चाइल्ड न्यूरोलाजिकल सेंटर के डॉ. नैथन वाटेमबर्ग की अगुवाई में वैज्ञानिकों के एक दल ने प्रयोग करके इस तथ्य को साबित किया कि च्युइंगम की आदत छोडऩे से सिरदर्द की संभावना काफी घट जाती है।

शोध के दौरान डॉ. वाटेमबर्ग ने लगातार सिरदर्द और माइग्रेन से पीड़ित एवं च्युंइगम चबाने की आदत से मजबूर 6 से 19 साल के 30 लोगों को एक महीने तक च्युंइगम न खाने की सलाह दी। इनमें से कई लोग दिन भर में एक घंटे और कई छह घंटे से अधिक च्युंइगम चबाने के आदी थे। एक महीने बाद पाया गया कि 30 में से 19 लोगों में सिरदर्द की शिकायत गायब हो गई और सात लोगों ने सिरदर्द में कमी की कही बात की। इसके बाद 30 में से 20 लोगों को दोबारा च्युंइगम चबाने के लिए कहा गया और उन्होंने दोबारा इस आदत को शुरू करने पर पाया कि वह सभी कुछ दिन बाद ही सिरदर्द से ग्रसित हो गए।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You