अनिद्रा और बेसमय सोने से बिगड़ सकती है जीन की लय

  • अनिद्रा और बेसमय सोने से बिगड़ सकती है जीन की लय
You Are HereInternational
Wednesday, January 22, 2014-1:51 PM

लंदन: यह तो सभी जानते हैं कि अच्छे स्वस्थ के लिए अच्छी नींद जरूरी है, लेकिन अनिद्रा व गल्त समय पर सोन से हमारे शरीर पर इसका बुरा प्रभाव पड़ सकता है। एक नए शोध में वैज्ञानिकों ने पाया कि जब सोने के समय में बदलाव होता है, तो उससे हमारे जीन की दैनिक लय भी बिगड़ती है।

यूनिवर्सिटी ऑफ सरे के शोधकर्ताओं ने 22 प्रतिभागियों को 28 घंटे के एक दिन वाले कृत्रिम वातारण में रखा। इस नियंत्रित वातारण में प्राकृतिक रोशनी व अंधेरे के चक्र का अभाव रहा। परिणाम उनके नींद से उठने के समय रोजाना से चार घंटे की देरी से था, जिसके बाद शोधकर्ताओं की टीम ने उनके जीन की लय का मूल्यांकन करने के लिए उनके खून के सेंपल लिए। जिसमें यह बात सामनें आई कि बेसमय सोने से जीन में छह गुना कमी आ गई।यह अध्ययन यह भी दर्शाता है कि नींद के द्वारा जीन पर नियंत्रण हो सकता

यूनिवर्सिटी ऑफ सरे के स्लीप रिसर्च सेंटर के प्रोफेसर डर्क-जेन डिक के अनुसार, इस अध्ययन से हमें रात्रि पाली या नींद के समय में गड़बड़ी के चलते बिगड़ते स्वास्थ्य को समझने में मदद मिल सकती है। यह शोध प्रोसिडिंग ऑफ द नेशनल एकेडमी ऑफ साइंसेज जर्नल में प्रकाशित हुआ है।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You