सामाजिक व्यवहार के लिए जिम्मेदार होता है दिमाग का खास सिस्टम

  • सामाजिक व्यवहार के लिए जिम्मेदार होता है दिमाग का खास सिस्टम
You Are HereInternational
Sunday, February 09, 2014-3:03 PM

वॉशिंगटन: वैज्ञानिकों ने एक खास प्रक्रिया का पता लगाया है, जिसके तहत ऑटिज्म और मानसिक विकास से जुड़ी दूसरी खामियों के शिकार लोगों के मस्तिष्क के विभिन्न हिस्से एक दूसरे से पर्याप्त संवाद नहीं कर पाते। इटली की यूरोपियन मॉलिक्यूलर बायोलॉजी लैबोरेट्री और रोवर्टो स्थित इंस्टीट्यूटो इटेलियानो डी टेक्नोलॉजिया एवं रोम के ला स्पेनजा विश्वविद्यालय के सहयोगकर्ताओं ने पाया कि इसकी वजह माइक्रोग्लिया नामक वे कोशिकाएं हो सकती हैं, जो न्यूरॉनों के बीच के संपर्कों को सही करने में विफल रहती हैं।

अध्ययन का नेतृत्व करने वाले कोर्नेलियस ग्रॉस ने कहा, ‘‘हमने दिखाया है कि विकास के दौरान माइक्रोग्लिया में कोई विसंगति आने से मस्तिष्क पर व्यापक और दीर्घकालिक प्रभाव हो सकते हैं। इससे मस्तिष्क का संपर्क कमजोर होता है, सामाजिक व्यवहार में कमी आती है, लगातार एक जैसा व्यवहार बढ़ता है और ये सभी ऑटिज्म के लक्षण हैं।’’ 

अध्ययन में पाया गया कि विकसित होते मस्तिष्क में से यदि ज्यादा संपर्क हटा दिए जाते हैं तो भी माइक्रोग्लिया बाकी बचे संपर्कों को मजबूत करते हैं। ये ठीक उसी तरह होते हैं, जैसे मस्तिष्क के विभिन्न क्षेत्रों के बीच मजबूत संदेश पहुंचाने का काम फाइबर-ऑप्टिक के तेज गति वाले तार कर रहे हों।  लेकिन यदि विकास के किसी चरण पर ये कोशिकाएं अपना काम करने में विफल रहती हैं तो मस्तिष्क के उस हिस्से से संवाद करने वाला तंत्र कमजोर हो जाता है और इसका व्यवहार पर दीर्घकालिक प्रभाव पड़ता है।

वैज्ञानिकों ने यह अध्ययन चूहों के मस्तिष्क का अध्ययन उच्च क्षमता वाले एफएमआरआई स्कैन की मदद से किया। इससे वैज्ञानिकों को मस्तिष्क के सक्रिय संपर्कों के त्रिविमीय नक्शे मिले। वैज्ञानिकों ने पाया कि जिन चूहों में माइक्रोग्लिया कम था, संपर्क कम थे, उनके व्यवहार ऑटिज्म विसंगति से मेल खाते थे। ये चूहे सामाजिक संपर्क से बचते थे। यह अध्ययन नेचर न्यूरोसाइंस में प्रकाशित किया गया।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You