फेसबुक अब टेढ़ों को भी कर देगा सीधा!

  • फेसबुक अब टेढ़ों को भी कर देगा सीधा!
You Are HereNational
Friday, March 21, 2014-3:35 PM

नई दिल्ली: फेसबुक 'एफ़बीमार्क' नाम का एक नया फ़ीचर लांच करने वाला है। ये फ़ीचर एक नए सफ़्टवेयर 'डीपफ़ेस' पर आधारित है। इस फ़ीचर की ख़ास बात ये है कि जिस तरह इंसानी आखें दो अलग-अलग चेहरों को पहचान लेती हैं वैसे ही अब फेसबुक भी एक जैसे दिखने वाले दो चेहरों को ख़ुद-ब-ख़ुद पहचान लेगा।

चेहरे को पहचानने की तकनीक को फ़ेसबुक ने 2010 में ही लांच कर दिया था। और उस पर आधारित टैगिंग से फ़ेसबुक अपने यूज़र्स को ये बताया करता था कि ये वो लोग हैं जिन्हें आप शायद जानते हैं और 'फ्रेंड रिक्वेस्ट' भेज सकते हैं। अब इस नए फ़ीचर से फ़ायदा ये होगा की एक जैसी दिखने वाली तस्वीरों में टैग होने से कोई और नहीं बल्कि फ़ेसबुक ही आपको बचाएगा।

इस नए फ़ीचर से जुड़ी जानकारी फ़ेसबुक के नए ब्लागपोस्ट और एमआईटी टेक्नॉलजी की एक रिपोर्ट में सामने आई है। कंपनी का कहना है कि वैसे तो ये तकनीक फ़ेसबुक के पास पहले से थी पर आप फ़ेस रीडिंग को इसके साथ ना मिलाएं। अगर इंसानी आंखों को दो एक जैसे चेहरों का अंतर करने को कहा जाए तो इंसानी आंखें 97.53% तक सही नतीजे देंगी। लेकिन फ़ेसबुक की पुरानी तकनीक में सही नतीजों की संभावना महज़ 25% ही थी लेकिन नई तकनीक के आने से अब दो चेहरों का अंतर बताने में फ़ेसबुक के गलत होने की संभावना 3त्न से भी कम है क्योंकि इस तकनीक के आने के बाद दो एक जैसे चेहरों में अंतर करने की क्षमता के मामले में फेसबुक के सही होने की संभावना 97.25% होगी।

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!

Recommended For You