फौजी स्मारक : फिजूल की बहस

Edited By , Updated: 23 Jan, 2022 07:30 AM

fauji memorial fizzle debate

देशवासियों के लिए यह खुशखबर है कि अब इंडिया गेट पर सुभाषचंद्र बोस की भव्य प्रतिमा सुसज्जित की जाएगी। इसे मैं हमारे नेताओं की भूल-सुधार कहूंगा, क्योंकि उस स्थान से जार्ज पंचम

देशवासियों के लिए यह खुशखबर है कि अब इंडिया गेट पर सुभाषचंद्र बोस की भव्य प्रतिमा सुसज्जित की जाएगी। इसे मैं हमारे नेताओं की भूल-सुधार कहूंगा, क्योंकि उस स्थान से जार्ज पंचम की प्रतिमा को हटे 52 साल हो गए, लेकिन किसी सरकार के दिमाग में यह बात नहीं आई कि वहां चंद्रशेखर आजाद या भगत सिंह या सुभाष बाबू की प्रतिमा को प्रतिष्ठित किया जाए।

अब सुभाष बाबू की प्रतिमा तो वहां लगेगी ही, सरकार ने एक काम और कर दिया है, जिसकी फिजूल ही आलोचना हो रही है। वह है, अमर जवान ज्योति और राष्ट्रीय युद्ध स्मारक को मिला कर एक कर दिया गया है।

यह ज्योति बंगलादेश में शहीद हुए भारतीय सैनिकों की याद में 1972 में स्थापित हुई थी और बाद के युद्धों में शहीद हुए जवानों के लिए पास में ही 2019 में एक स्मारक बना दिया गया था। अब सरकार ने इन दोनों को मिला कर जो एक पूर्ण स्मारक बनाया है तो उसकी आलोचना यह कह कर हो रही है कि इंदिरा गांधी के बनाए हुए स्मारक को नष्ट करके मोदी अपना नाम चमकवाना चाहते हैं। इसीलिए उन्होंने अपने बनवाए हुए स्मारक में उसे विलीन करवा दिया है। 

कल भारतीय टैलीविजन चैनलों पर इसी मुद्दे को लेकर दिन भर उठा-पटक चलती रही। जो आरोप लगाया जा रहा है, वह तभी सही होता जबकि अमर जवान ज्योति को जॉर्ज पंचम की मूॢत की तरह हटा या बुझा दिया जाता। अब ज्योति और स्मारक को मिला देने से संयुक्त ज्योति और भी तेजस्वी हो जाएगी। इस महाज्योति में अब उन 3843 जवानों के नाम भी शिलालेख पर लिखे जाएंगे, जिनका बंगलादेश में बलिदान हुआ था। पहले ये नाम नहीं लिखे गए थे। अब संयुक्त स्मारक में कुल 24,466 जवानों के नाम अंकित होंगे, जो 1947 से अब तक के सभी युद्धों या मुठभेड़ों या आतंकी मुकाबलों में शहीद हुए हैं। ये नाम स्वर्णाक्षरों में अंकित होंगे। 

इंडिया गेट का निर्माण अंग्रेज शासकों ने 1931 में करवाया था, ताकि प्रथम महायुद्ध और अफगान-ब्रिटिश युद्धों में शहीद हुए भारतीय नौजवानों को याद रखा जा सके। उनकी सं या 84,000 मानी जाती है। अब यदि अपने सभी भारतीय जवानों का स्मारक एक ही जगह हो तो यह ज्यादा अच्छा है। सभी के लिए एक ही भव्य श्रद्धांजलि समारोह होगा। भारत में किसी भी पार्टी का प्रधानमंत्री हो, सभी शहीद उसके लिए तो एक समान ही होने चाहिएं। कांग्रेसी-काल और भाजपा-काल के शहीदों में फर्क करना और उनके लिए अलग-अलग स्मारक खड़े करना कहां तक ठीक है? 

नरेंद्र मोदी यदि अमर जवान ज्योति के लिए यह नहीं कहते कि किसी खास परिवार के नाम पर ही स्मारक खड़े किए जाते हैं तो शायद यह फिजूल का वितंडावाद खड़ा नहीं होता। कांग्रेसियों की हालत पहले ही खस्ता है। यदि आप जले पर नमक छिड़केंगे तो मरीज शोर तो मचाएगा ही।-डा. वेदप्रताप वैदिक
 

Trending Topics

Indian Premier League
Gujarat Titans

Rajasthan Royals

Match will be start at 24 May,2022 07:30 PM

img title img title

Everyday news at your fingertips

Try the premium service

Subscribe Now!