बाजार में दोगुने हुए 500 रुपए के नकली नोट, जानिए बाकी नोटों का क्या है हाल

Edited By jyoti choudhary, Updated: 29 May, 2022 01:41 PM

fake notes of rs 500 doubled in the market know what is the

देश में नकली नोट तेजी से बढ़ते जा रहे हैं। रिजर्व बैंक की तरफ से मिले आंकड़ों के मुताबिक 2021-22 में नकली नोटों की संख्या बहुत अधिक बढ़ गई है। अगर बात 500 रुपए के नोटों की करें तो 2020-21 में 500 के फर्जी नोटों की संख्या 101.9 फीसदी बढ़ गई। वहीं अगर...

बिजनेस डेस्कः देश में नकली नोट तेजी से बढ़ते जा रहे हैं। रिजर्व बैंक की तरफ से मिले आंकड़ों के मुताबिक 2021-22 में नकली नोटों की संख्या बहुत अधिक बढ़ गई है। अगर बात 500 रुपए के नोटों की करें तो 2020-21 में 500 के फर्जी नोटों की संख्या 101.9 फीसदी बढ़ गई। वहीं अगर बात 2000 के नोटों की करें तो 2020-21 में 2000 के फर्जी नोटों की संख्या 54.16 फीसदी बढ़ी है।

31 मार्च 2022 तक सर्कुलेशन में 500 और 2000 रुपए के बैंक नोटों की हिस्सेदारी कुल वैल्यू की 87.1 फीसदी थी। 31 मार्च 2021 तक यह आंकड़ा 85.7 फीसदी था। 31 मार्च 2022 तक 500 रुपए के नोटों की हिस्सेदारी सबसे अधिक थी, जो 34.9 फीसदी थी। इसके बाद नंबर आता है 10 रुपए के बैंक नोट का, जो कुल नोटों का 21.3 फीसदी था।

100 और 50 रुपए के नकली नोट हुए कम
अगर पिछले साल से तुलना करें तो 10, 20, 200, 500 और 2000 रुपए के नकली नोट क्रमशः 16.4%, 16.5%, 11.7%, 101.9% और 54.6% बढ़े हैं। वहीं दूसरी ओर 50 रुपए के नकली नोट 28.7 फीसदी कम हुए हैं और 100 रुपए के नोट करीब 16.7 फीसदी घटे हैं।

2000 के नोट हुए कम
दो हजार रुपए के बैंक नोट (Rs. 2000 Note) की संख्या में पिछले कुछ साल से गिरावट का सिलसिला जारी है। इस साल मार्च अंत तक चलन वाले कुल नोट में इनकी हिस्सेदारी घटकर 214 करोड़ या 1.6 प्रतिशत रह गई। आरबीआई की वार्षिक रिपोर्ट में यह कहा गया है। इस साल मार्च तक सभी मूल्यवर्ग के नोटों की कुल संख्या 13,053 करोड़ थी। इससे एक साल पहले इसी अवधि में यह आंकड़ा 12,437 करोड़ था।

भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) की वार्षिक रिपोर्ट के मुताबिक मार्च 2020 के अंत में चलन में शामिल 2000 रुपये के मूल्यवर्ग वाले नोटों की संख्या 274 करोड़ थी। यह आंकड़ा चलन में कुल करेंसी नोटों की संख्या का 2.4 प्रतिशत था। इसके बाद मार्च 2021 तक चलन में शामिल 2000 के नोटों की संख्या घटकर 245 करोड़ या दो प्रतिशत रह गई। पिछले वित्त वर्ष के अंत में यह आंकड़ा 214 करोड़ या 1.6 प्रतिशत तक रह गया।
 

Related Story

Test Innings
England

284/10

378/3

India

416/10

245/10

England win by 7 wickets

RR 4.63
img title img title

Everyday news at your fingertips

Try the premium service

Subscribe Now!