FPI ने भारतीय बाजार से निकाले 2 लाख करोड़ रुपए से अधिक, 2018 के उच्चतम स्तर से दोगुना

Edited By jyoti choudhary, Updated: 17 Jun, 2022 11:50 AM

fpi outflow tops rs 2 lakh crore over double of 2018 high

भारत से 2022 में शुद्ध विदेशी फंड की निकासी 2 लाख करोड़ रुपए के आंकड़े को पार कर गई, जो अब तक का सबसे बड़ा वार्षिक आंकड़ा है और 2018 में दर्ज 80,917 करोड़ रुपए के पिछले उच्च स्तर से दोगुना है। सीडीएसएल के आंकड़ों से पता चलता है कि शेयर बा

मुंबई: भारत से 2022 में शुद्ध विदेशी फंड की निकासी 2 लाख करोड़ रुपए के आंकड़े को पार कर गई, जो अब तक का सबसे बड़ा वार्षिक आंकड़ा है और 2018 में दर्ज 80,917 करोड़ रुपए के पिछले उच्च स्तर से दोगुना है। सीडीएसएल के आंकड़ों से पता चलता है कि शेयर बाजार में विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों (एफपीआई) द्वारा 90% से अधिक (लगभग 1.9 लाख करोड़ रुपए) की निकासी की गई है।

विश्लेषकों और ब्रोकरों ने कहा कि सरपट दौड़ती महंगाई, बढ़ते चालू खाते के घाटे, कमजोर मुद्रा और यूएस फेड द्वारा दुनिया की सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था में बहुत तेजी से दरें बढ़ाने के फैसले ने विदेशी फंड प्रबंधकों को भारत सहित जोखिमपूर्ण उभरती बाजार संपत्तियों से पैसा निकालने के लिए मजबूर किया है।

जून लगातार नौवां महीना है जब एफपीआई भारत में शुद्ध विक्रेता रहे हैं, इस अवधि के दौरान कुल मिलाकर लगभग 2.5 लाख करोड़ रुपए निकाल चुके हैं। आधिकारिक आंकड़ों से पता चलता है कि इस महीने अब तक, केवल 15 दिनों में, एफपीआई के पास लगभग 25,000 करोड़ रुपए के शुद्ध स्टॉक बेचे गए हैं। बुधवार को भी एफपीआई बाजार में 3,531 करोड़ रुपए के शुद्ध विक्रेता थे। यह डेटा गुरुवार को रिपोर्ट किए जाने वाले आंकड़ों में शामिल किया जाएगा।

एक प्रमुख डेट फंड मैनेजर के मुताबिक, एफपीआई का आउटफ्लो कुछ और महीनों तक जारी रह सकता है, कम से कम तब तक जब तक यह स्पष्ट नहीं हो जाता कि यूएस फेड अमेरिका में तरलता को मजबूत करने के लिए कितना आगे बढ़ेगा।
 

Related Story

Trending Topics

Test Innings
England

India

134/5

India are 134 for 5

RR 3.72
img title img title

Everyday news at your fingertips

Try the premium service

Subscribe Now!