सरकार ने तांबे की ट्यूब, पाइप पर प्रतिपूर्ति शुल्क लगाया

Edited By jyoti choudhary, Updated: 10 May, 2022 05:19 PM

government imposes reimbursement duty on copper tubes pipes

सरकार ने मलेशिया, थाइलैंड और वियतनाम से आयातित तांबे की ट्यूब और पाइप पर पांच साल के लिए प्रतिपूर्ति शुल्क लगाया है। व्यापार उपचार महानिदेशालय (डीजीटीआर) ने मामले को खुद संज्ञान में लेकर जांच की और उसकी सिफारिशों के आधार पर यह

नई दिल्लीः सरकार ने मलेशिया, थाइलैंड और वियतनाम से आयातित तांबे की ट्यूब और पाइप पर पांच साल के लिए प्रतिपूर्ति शुल्क लगाया है। व्यापार उपचार महानिदेशालय (डीजीटीआर) ने मामले को खुद संज्ञान में लेकर जांच की और उसकी सिफारिशों के आधार पर यह कार्रवाई हुई। शुल्क लगाने का मकसद घरेलू कंपनियों को इन देशों के सस्ते आयात से संरक्षण देना है। 

राजस्व विभाग ने 28 अप्रैल को कहा, ‘‘इस अधिसूचना के तहत लगाया गया प्रतिपूर्ति शुल्क आधिकारिक राजपत्र में इसके प्रकाशन की तारीख से पांच साल के लिए है, जो भारतीय मुद्रा में देय होगा।'' लगाया गया शुल्क सीआईएफ (लागत, बीमा, माल ढुलाई) मूल्य के 2.13 प्रतिशत से 14.76 प्रतिशत के बीच है।

सीआईएफ मूल्य माल का वास्तविक मूल्य है, जिस पर उनका निर्यात किया जाता है। डीजीटीआर द्वारा शुल्क लगाने की सिफारिश के बाद वित्त मंत्रालय इस संबंध में अंतिम निर्णय लेता है। प्रतिपूर्ति शुल्क घरेलू व्यापार एवं बाजार की रक्षा के लिए आयातित वस्तुओं पर लगाया जाता है। 

Related Story

Trending Topics

Indian Premier League
Kolkata Knight Riders

Lucknow Super Giants

Match will be start at 18 May,2022 07:30 PM

img title img title

Everyday news at your fingertips

Try the premium service

Subscribe Now!