टमाटर की कीमत में भारी कमी लेकिन आलू में अभी भी तेजी बनी हुई है, जानिए क्या है मसला

Edited By rajesh kumar,Updated: 14 Jul, 2022 01:55 PM

huge reduction in the price of tomatoes but potatoes

मंहगाई की मार झेल रहे आम आदमी के लिए राहत भरी खबर है। जून में टमाटर की कीमत 100 रुपये किलो तक पहुंच गई थी लेकिन अब इसमें काफी कमी आ गई है। टमाटर की कीमत में 60 फीसदी गिरावट आई है और अब ये 40 रुपए किलो मिल रहा है।

नेशनल डेस्क: मंहगाई की मार झेल रहे आम आदमी के लिए राहत भरी खबर है। जून में टमाटर की कीमत 100 रुपये किलो तक पहुंच गई थी लेकिन अब इसमें काफी कमी आ गई है। टमाटर की कीमत में 60 फीसदी गिरावट आई है और अब ये 40 रुपए किलो मिल रहा है। दक्षिणी राज्यों से मांग बढ़ने के कारण इस महीने आलू की कीमत में दो फीसदी तक का इजाफा हुआ है। जिससे आलू की कीमत में भी तेजी बनी हुई है। सरकारी आंकड़ों के मुताबिक, जून में आलू और टमाटर की कीमत में 23.86 फीसदी और 158.78 फीसदी की तेजी आई। 

आजादपुर मंडी में टोमैटो ट्रेडर्स एसोसिएशन के प्रेजिडेंट अशोक कौशिक का कहना है कि, असामान्य लू के कारण पूरे देश में टमाटर की फसल प्रभावित हुई थी लेकिन अब ऐसा नहीं है। भारी बारिश के कारण टमाटर के उत्पादन में तेजी आई है। शिमला, कर्नाटक और आंध्र प्रदेश से अच्छी सप्लाई आने से जुलाई में टमाटर की कीमत में कमी आई है। इस साल शुरूआत की गर्मी और लू के कारण टमाटर की फसल प्रभावित हुई थी। इससे देश के कई हिस्सों में टमाटर की कीमत 100 रुपए प्रति किलो पहुंच गई थी। वहीं, भुवनेश्वर में तो भाव 120 रुपए किलो चला गया था। पूरे देश में प्रति वर्ष 21 मीट्रिक टन टमाटर का उत्पादन होता है। 

टमाटर की कीमत बढ़ने के कारण

वेजिटेबल ग्रोअर्स एसोसिएशन ऑफ इंडिया के प्रेजिडेंट श्रीराम गढ़वे ने कहा कि जलवायु में बदलाव से मई और जून में टमाटर की फसल कीड़ों ने बर्बाद कर दी। इससे सप्लाई में भारी कमी आई। लू के कारण टमाटर के फूल तबाह तो हुए ही साथ में इसकी पैदावार पर भी असर पड़ा। टमाटर की कीमत में तो कमी आई है तो दूसरी ओर आलू की कीमत में अभी भी तेजी बनी हुई है और कम होने का नाम नहीं ले रही। 

कृषि मंत्रालय के मुताबिक इस सीजन में आलू का उत्पादन 53.60 मीट्रिक टन रहने का अनुमान है जो कि बीते वर्ष के मुकाबले 56.17 मीट्रिक टन रहा था। पश्चिम बंगाल, पंजाब और हरियाणा में बीते साल नवंबर और दिसंबर में बुवाई से पहले भारी बारिश के कारण इसका उत्पादन प्रभावित हुआ। वहीं, इस साल मार्च में ही लू चलनी शुरू गई थी जिसके कारण भी आलू की फसल प्रभावित हुई थी। अभी इसकी कीमत में कमी आने की संभावना नहीं है। इस वक्त औसत किस्म का आलु होलसेल में 19 रुपये किलो जबकि अच्छे किस्म के आलू की कीमत 22 रुपए चली हुई है। 
 

Related Story

Trending Topics

West Indies

137/10

26.0

India

225/3

36.0

India win by 119 runs (DLS Method)

RR 5.27
img title img title

Everyday news at your fingertips

Try the premium service

Subscribe Now!