ग्रेटर नोएडा में 22 बिल्डरों को 63.41 करोड़ रुपए के बिल भुगतान का नोटिस

Edited By jyoti choudhary, Updated: 01 Jun, 2022 11:28 AM

notice of bill payment of rs 63 41 crore to 22 builders in greater noida

ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण क्षेत्र में स्थित 22 बिल्डरों एवं ग्रुप हाउसिंग सोसाइटी के खिलाफ 63.41 करोड़ रुपए का पानी का बिल लंबे समय से जमा नहीं करने की वजह से वसूली पत्र (आरसी) जारी कर दिया गया है। ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के मुख्य कार्यपालक

ग्रेटर नोएडाः ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण क्षेत्र में स्थित 22 बिल्डरों एवं ग्रुप हाउसिंग सोसाइटी के खिलाफ 63.41 करोड़ रुपए का पानी का बिल लंबे समय से जमा नहीं करने की वजह से वसूली पत्र (आरसी) जारी कर दिया गया है। ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के मुख्य कार्यपालक अधिकारी सुरेंद्र सिंह ने आरसी जारी करने की जानकारी देते हुए कहा कि सभी उपभोक्ताओं को समय से पानी का बिल का भुगतान कर देना चाहिए। उन्होंने कहा कि बकाया बिल जमा न करने वालों पर कड़ी कार्रवाई की जाएगी। 

प्राधिकरण के वरिष्ठ प्रबंधक कपिल सिंह ने बताया कि लंबे समय से पानी के बिल का भुगतान नहीं कर रहे बिल्डरों से पैसा वसूलने के लिए राजस्व विभाग को सभी आरसी उपलब्ध करा दी गई हैं। प्राधिकरण ने बकायेदारों के लिए एकमुश्त समाधान योजना लागू कर रखी है जिसके तहत उपभोक्ता छूट प्राप्त कर सकते हैं। उन्होंने कहा कि प्राधिकरण की वेबसाइट से जानकारी लेकर उपभोक्ता ऑनलाइन भुगतान भी कर सकते हैं। ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण क्षेत्र में पानी के करीब 40 हजार कनेक्शन हैं। इनमें से अधिकतर उपभोक्ताओं पर पानी का बिल बाकी है। 

बिल जमा करने के लिए प्राधिकरण ने कई बार नोटिस जारी किया लेकिन बकायेदारों पर कोई असर नहीं पड़ा। इसे देखते हुए प्राधिकरण ने बकाया वसूलने को कड़ी कार्रवाई शुरू कर दी है। सबसे पहले बिल्डरों एवं ग्रुप हाउसिंग सोसायटी से इसकी शुरुआत की गयी है। उन्होंने बताया कि पानी का बिल जमा नहीं करने वाले बिल्डर में गौड़ संस प्रमोटर्स, सुपरटेक लिमिटेड, यूनिटेक रिलायबल प्रोजेक्ट्स, पा‌र्श्वनाथ डेवलपर्स, पूर्वांचल कंस्ट्रक्शन, लॉ रेजिडेंसिया डेवलपर्स के अलावा भी कई ग्रुप हाउसिंग सोसाइटी शामिल हैं।

Related Story

Trending Topics

Test Innings
England

India

134/5

India are 134 for 5

RR 3.72
img title img title

Everyday news at your fingertips

Try the premium service

Subscribe Now!