ओला में हो सकती है 400 से 500 कर्मचारियों की छंटनी, खर्च कम करने की कवायद शुरू

Edited By jyoti choudhary,Updated: 06 Jul, 2022 12:44 PM

ola may lay off 400 to 500 employees exercise to reduce expenses

अपनी क्विक कॉमर्स बिजनेस ओला डैश और सेकेंड हैंड कारों के बिजनेस ओला कार्स को बंद करने के बाद कंपनी ने अब अपने कर्मचारियों की संख्‍या में भी कटौती करने का फैसला किया है। सूत्रों का कहना है कि ओला आने वाले दिनों में 400-500 कर्मचारियों को नौकरी से...

नई दिल्लीः अपनी क्विक कॉमर्स बिजनेस ओला डैश और सेकेंड हैंड कारों के बिजनेस ओला कार्स को बंद करने के बाद कंपनी ने अब अपने कर्मचारियों की संख्‍या में भी कटौती करने का फैसला किया है। सूत्रों का कहना है कि ओला आने वाले दिनों में 400-500 कर्मचारियों को नौकरी से निकाल सकती है। ओला के कोर मोबिलिटी बिजनेस 1,000-1,100 कर्मचारी काम करते हैं। इलेक्ट्रिक सेग्मेंट पर फोकस करने के लिए ही ओला दूसरे खर्चीले बिजनेस बंद कर रही है।

सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक, आईपीओ लाने की योजना में देरी और फंडिंग को लेकर चुनौतीपूर्ण माहौल के बीच Ola अपनी लागत को घटाने की कोशिश कर रही है और इसके तहत वह कर्मचारियों की छंटनी कर सकती है। मामले से वाकिफ एक सूत्र ने बताया कि प्रमुख मैनेजरों से अपनी टीम के उन लोगों की लिस्ट बनाने के लिए कहा गया है, जिनकी छंटनी की जा सकती है। सूत्र ने आगे कहा कि ओला ने ब्रिटेन, ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड जैसे विदेशी बाजारों में निवेश पर भी ब्रेक लगा दिया है, जहां वह पहले से मौजूद है।

Ola का जोर खर्च घटाने पर
एक दूसरे सूत्र ने बताया कि कंपनी ने अंतरराष्‍ट्रीय बाजारों में खर्च करना बंद कर दिया है। यूके और न्यूजीलैंड जैसे देशों में उनका मार्केट शेयर अब एकल अंकों में आ गया है। सूत्रों का अनुमान है कि ओला के कोर मोबिलिटी बिजनेस में करीब 1,000-1,100 कर्मचारी काम करते हैं। एक सूत्र ने बताया वे हर महीने करीब 100-150 करोड़ रुपए का रेवेन्यू दर्ज करते हैं, जिसमें से 40-50 करोड़ रुपए का हो प्रॉफिट रहा है। ओला डैश जैसा खर्चीला कारोबार बंद करने और कर्मचारियों की लागत में कटौती से कंपनी का ऑपरेशनल मार्जिन बढ़ जाएगा और अगर कंपनी आईपीओ की दिशा में आगे बढ़ती है तो यह उन्हें मुनाफा कमाने वाले कारोबार के तौर पर भी दिखाएगा।

मोबिलिटी इंडस्ट्री पर फोकस
ओला ने छंटनी की इस खबर या निकाले जाने वाले लोगों की संख्या के बारे में कोई टिप्पणी नहीं की। कंपनी का कहना है कि उसका मुख्य फोकस मोबिलिटी इंडस्ट्री पर बना रहेगा, फिर चाहे वो राइड-हेलिंग हो, ऑटो रिटेल, फाइनेंशियल सर्विसेज या इलेक्ट्रिक व्हीकल्स हों। कंपनी ने कहा, “आज हमारा राइड हेलिंग बिजनेस हर महीने नया रिकॉर्ड ग्रॉस मर्चेंडाइज वैल्यू (GMV) दर्ज कर रहा है। जैसे-जैसे हम बढ़ते रहेंगे, हम छोटी और कंसॉलिडेटेड टीम के साथ क्षमताओं और पैमाने को इस तरह से देखेंगे, जो हमारी मुनाफे की मजबूत स्थिति को बरकरार रखे।”
 

Related Story

Trending Topics

West Indies

137/10

26.0

India

225/3

36.0

India win by 119 runs (DLS Method)

RR 5.27
img title img title

Everyday news at your fingertips

Try the premium service

Subscribe Now!