कॉटन की कीमत में आ सकती है बड़ी गिरावट!

Edited By jyoti choudhary, Updated: 03 Jun, 2022 06:14 PM

there may be a big in the price of cotton

महंगाई से जनता का हाल बुरा है लेकिन इस बीच शॉर्ट टर्म में घरेलू बाजार में कॉटन की कीमत में बड़ी गिरावट आ सकती है। अगले 1 से 2 महीने में कॉटन की कीमत 40,000 रुपए के निचले स्तर तक पहुंच सकती है। ओरिगो ई-मंडी के असिस्टेंट जनरल मैनेजर (कमोडिटी रिसर्च)...

नई दिल्लीः महंगाई से जनता का हाल बुरा है लेकिन इस बीच शॉर्ट टर्म में घरेलू बाजार में कॉटन की कीमत में बड़ी गिरावट आ सकती है। अगले 1 से 2 महीने में कॉटन की कीमत 40,000 रुपए के निचले स्तर तक पहुंच सकती है। ओरिगो ई-मंडी के असिस्टेंट जनरल मैनेजर (कमोडिटी रिसर्च) तरुण सत्संगी ने कहा कि कॉटन आईसीई का दाम कम होकर 131.5 सेंट प्रति पाउंड के स्तर पर आ सकता है। 2022-23 में भारत में कपास की बुआई सालाना आधार पर 5-10 फीसदी बढ़कर 126-132 लाख हेक्टेयर रहने का अनुमान है।

शंकर-6 कॉटन का भाव जनवरी 2021 की तुलना में 108 फीसदी से ज्यादा बढ़कर 96,000 रुपए प्रति कैंडी के आस-पास कारोबार कर रहा है। जनवरी 2021 में शंकर-6 कॉटन का भाव 46,000 रुपए प्रति कैंडी (1 कैंडी=356 किलोग्राम) था लेकिन भाव 1,00,000 रुपए की रिकॉर्ड ऊंचाई से नीचे है। बता दें कि शंकर-6 कॉटन एक्सपोर्ट में सबसे ज्यादा इस्तेमाल होने के साथ ही व्यापक रूप से इस्तेमाल की जाने वाली किस्म है। 17 मई को 50,330 रुपए प्रति गांठ की रिकॉर्ड ऊंचाई को छूने के बाद कमोडिटी एक्सचेंज एमसीएक्स पर कॉटन जून वायदा करीब 12.2 फीसदी लुढ़क चुका है और मौजूदा समय में भाव 44,190 रुपए के आस-पास कारोबार कर रहा है।

कीमतों में क्यों आई गिरावट?
वैश्विक ग्रोथ की चिंता, सरकार के द्वारा शुल्क मुक्त कॉटन आयात नीति के ऐलान के बाद आयात में बढ़ोतरी, सामान्य मॉनसून का अनुमान और फसल वर्ष 2022-2023 में कपास का रकबा बढ़ने के अनुमान जैसे प्रमुख कारकों की वजह से कॉटन की कीमतों पर बिकवाली का दबाव है। तरुण सत्संगी का कहना है कि कीमतों में गिरावट की आशंका को लेकर हम पहले ही कई बार चेतावनी जारी कर चुके हैं।

तरुण सत्संगी का कहना है कि पुरानी फसल-आईसीई कॉटन जुलाई वायदा का भाव 11 साल की ऊंचाई से 20 सेंट या 12.8 फीसदी लुढ़क चुका है। बता दें कि 4 मई 2022 को भाव ने 11 साल की ऊंचाई 155.95 को छुआ था। 17 मई से पुरानी फसल-आईसीई कॉटन जुलाई वायदा में भाव करेक्शन मोड में है। पुरानी फसल आईसीई कॉटन जुलाई वायदा के भाव ने प्रमुख सपोर्ट लेवल को तोड़ दिया है और ट्रेंड रिवर्सल प्वाइंट के नीचे बंद हो गया है, जो कि आने वाले दिनों में बाजार में मंदी का संकेत है। तरुण कहते हैं कि मांग की चिंता की वजह से कीमतों में करेक्शन देखा गया है।
 

Related Story

Trending Topics

Test Innings
England

India

134/5

India are 134 for 5

RR 3.72
img title img title

Everyday news at your fingertips

Try the premium service

Subscribe Now!