जल शक्ति अभियान व अटल भू- जल योजना के तहत निर्धारित लक्ष्यों को तय समयावधि में पूरा करें :संजीव कौशल

Edited By Ajay Chandigarh, Updated: 23 May, 2022 07:26 PM

haryana is the best performing state in the country in terms of implementation

हरियाणा के मुख्य सचिव संजीव कौशल ने कहा कि जल शक्ति अभियान और अटल भू-जल योजना के तहत निर्धारित लक्ष्यों को निश्चित समयावधि में पूरा करें, ताकि इस वर्ष भी हरियाणा पिछले वर्ष की तरह टॉप परफॉॄमग स्टेट बनकर उभरे। मुख्य सचिव ने वीडियो कांफ्रैंसिंग के...

चंडीगढ़, (बंसल): हरियाणा के मुख्य सचिव संजीव कौशल ने कहा कि जल शक्ति अभियान और अटल भू-जल योजना के तहत निर्धारित लक्ष्यों को निश्चित समयावधि में पूरा करें, ताकि इस वर्ष भी हरियाणा पिछले वर्ष की तरह टॉप परफॉॄमग स्टेट बनकर उभरे। मुख्य सचिव ने वीडियो कांफ्रैंसिंग के माध्यम से जिला उपायुक्तों के साथ जल शक्ति अभियान और अटल भू-जल योजना के क्रियान्वयन के संबंध में राज्य अंतर विभागीय संचालन समिति (एस.आई.एस.सी.) की बैठक कर रहे थे। जिसमें अटल भू-जल योजना के तहत इस वर्ष की कार्य योजना को मंजूरी दी। मुख्य सचिव ने सभी उपायुक्तों को निर्देश दिए कि जल शक्ति अभियान के तहत इस वर्ष हरियाणा को पिछले वर्ष के मुकाबले 10 प्रतिशत अधिक लक्ष्य आवंटित किए गए हैं, इसलिए जिलों में सभी संबंधित विभागों के नोडल अधिकारी जमीनी स्तर पर आपसी तालमेल के साथ अल्पावधि के लक्ष्यों को पूरा करने पर जोर दें। 

 


अटल भू-जल योजना के तहत 14 जिलोंं को किया जा रहा है कवर:
बैठक में बताया कि अटल भू-जल योजना के क्रियान्वयन के मामले में हरियाणा देश में बैस्ट परफॉर्मिंग स्टेट है। इस योजना का मुख्य उद्देश्य हरियाणा में भूजल संसाधनों का हाइड्रोजियोलॉजिकल डाटा नैटवर्क बनाना तथा राज्य में भूजल की कमी को 50 प्रतिशत तक कम करने के साथ ही भू-जल संसाधनों के प्रबंधन के लिए सामुदायिक संस्थाओं का निर्माण करने का लक्ष्य है। योजना के तहत हरियाणा के कुल 14 जिलों को कवर किया जा रहा है। इसमें कुल 1669 ग्राम पंचायतों के साथ 36 भू-जल दबाव वाले ब्लॉक शामिल हैं। प्रारंभ में प्रत्येक गांव की जल सुरक्षा योजना तैयार की जाएगी और आगामी वर्षों में इसे लागू किया जाएगा। भू-जल का स्तर दर्ज करने की दिशा में पीजोमीटर लगाए जाएंगे।


भू-जल स्तर तालिका की गहराई की स्थिति के आधार पर राज्य को सात जोन में वर्गीकृत किया है:
इसके अलावा, हरियाणा जल संसाधन (संरक्षण, विनियमन और प्रबंधन) प्राधिकरण (एच.डब्ल्यू.आर.ए.) ने जून 2020 तक भू-जल स्तर तालिका की गहराई की स्थिति के आधार पर राज्य को सात जोन में वर्गीकृत किया है, जिससे भू-जल प्रबंधन और भू-जल स्तर में वृद्धि करने हेतु विभिन्न योजनाएं गाँव स्तर पर ही बनाई जा सकेंगी।  बैठक में बताया गया कि सर्वप्रथम संस्थागत मजबूती और जल सुरक्षित राज्य की दिशा में जुड़े विभिन्न हितधारकों के क्षमता निर्माण पर जोर दिया जाएगा, ताकि सम्पूर्ण डाटा एक जगह उपलब्ध हो और उसके अनुरूप योजनाओं को अमल में लाया जा सके। 
 

 

जल शक्ति अभियान: कैच द रेन -2022:  
जल शक्ति अभियान: कैच द रेन 2022 केंद्र सरकार  द्वारा शुरू किया गया एक राष्ट्रव्यापी जल संरक्षण अभियान है। पेयजल और स्वच्छता विभाग एवं जल शक्ति मंत्रालय द्वारा यह अभियान जुलाई 2019 में भारत में जल संरक्षण पर प्रमुख ध्यान देने के साथ शुरू किया गया था ताकि जल संकट से जूझ रहे जिलों में भू जल स्तर में सुधार और जल संसाधन प्रबंधन में तेजी लाई जा सके। उन्होंने कहा कि अप्रैल माह तक हरियाणा में वर्षा जल संचयन की 49,771 संरचनाएं, पारंपरिक जल निकायों का नवीनीकरण की 9533 संरचनाएं, पुन: उपयोग और पुनर्भरण की 26312 संरचनाएं, वाटरशैड विकास के घटक के तहत 7800 संरचनाएं,सघन वनरोपण परियोजना में 1,42,92,885 पेड़ लगाए गए हैं। बैठक में बताया गया कि हरियाणा एकमात्र राज्य है जिसने सभी जल निकायों को मैप और जियोटैग किया है। 
 

Related Story

Test Innings
England

India

134/5

India are 134 for 5

RR 3.72
img title img title

Everyday news at your fingertips

Try the premium service

Subscribe Now!