पितृ दोष से मुक्ति पाने के लिए 29 जून को करें ये उपाय

Edited By Jyoti,Updated: 28 Jun, 2022 05:24 PM

ashada amavasya

हिंदू धर्म में अमावस्या तिथि को बहुत महत्व दिया गया है। इस दिन पितरों के नाम का श्राद्ध व स्नान-दान का कार्यक्रम किया जाता है। बता दें कि आषाढ़ माह में 29 जून, दिन बुधवार को अमावस्या तिथि मनाई जाएगी। आषाढ़ माह की अमावस्या को हलहारिमी अमावस्या के नाम...

शास्त्रों की बात, जानें धर्म के साथ
हिंदू धर्म में अमावस्या तिथि को बहुत महत्व दिया गया है। इस दिन पितरों के नाम का श्राद्ध व स्नान-दान का कार्यक्रम किया जाता है। बता दें कि आषाढ़ माह में 29 जून, दिन बुधवार को अमावस्या तिथि मनाई जाएगी। आषाढ़ माह की अमावस्या को हलहारिमी अमावस्या के नाम से भी जाना जाता है। क्योंकि ये अमावस्या किसानों के लिए बहुत खास मानी गई है। इस दिन कृषि कार्य से जुड़े उपकरणों की पूजा की जाती है। मान्यता है कि पितृ दोष से मुक्ति पाने के लिए अमावस्या बहुत खास होती है। तो आज हम आपको अमावस्या के दिन पितृ दोष से मुक्ति पाने के लिए कुछ चमत्कारी उपाय बताएंगे। तो आइए जानते हैं-
PunjabKesari ashada amavasya, ashada amavasya 2022, ashadha amavasya 2022 date and time, ashadha amavasya 2022 date and time in hindi, Ashad Amavasya 2022 shubh muhurat, halharini amavasya, halharini amavasya 2022 kab hai, halharini amavasya 2022
ज्योतिष शास्त्र के अनुसार, आषाढ़ अमावस्या पर सुबह स्नान करने के बाद पितरों को पानी में अक्षत और काले तिल मिलाकर तर्पण दें। साथ ही इस दिन ब्राह्मणों को भोजन, दान और दक्षिणा दें। इससे पितृ प्रसन्न होते हैं और पितृ दोष से मुक्ति मिलती है। 

धन-धान्य में वृद्धि के लिए अमावस्या की शाम घर के ईशान कोण में एक दीपक जलाएं। उसमें गाय के घी, केसर और लाल धागे वाली बत्ती का उपयोग करें। इससे धन की देवी मां लक्ष्मी का आशीर्वाद मिलता है और घर में धन-धान्य की कभी कमी नहीं रहती।
 

1100  रुपए मूल्य की जन्म कुंडली मुफ्त में पाएं । अपनी जन्म तिथि अपने नाम , जन्म के समय और जन्म के स्थान के साथ हमें 96189-89025 पर वाट्स ऐप करें

 

मान्यता के अनुसार, आषाढ़ अमावस्या को कृषि उपकरणों की पूजा की जाती है। कहा जाता है कि ऐसा करने से फल का उत्पादन अच्छा होता है, जिससे घर के धन धान्य में वृद्धि होती है।

यदि आपको पितृदोष है और उसके कारण आपको जीवन में काफी समस्याओं का सामना कर पड़ रहा है तो आषाढ़ अमावस्या के अवसर पर अपने पितरों के लिए पिंडदान करे। पिंडदान करने से पितर प्रसन्न होते हैं, उनकी आत्माएं तृप्त होती है। तृप्त होने पर वे अपने परिवार और वंश की उन्नति के लिए आशीर्वाद देते हैं।
PunjabKesari ashada amavasya, ashada amavasya 2022, ashadha amavasya 2022 date and time, ashadha amavasya 2022 date and time in hindi, Ashad Amavasya 2022 shubh muhurat, halharini amavasya, halharini amavasya 2022 kab hai, halharini amavasya 2022
मान्यता है कि अमावस्या पर बनाए गए भोजन में से कुछ अंश कौआ, कुत्ता, गाय जैसे पशुओं को खिलाने से पितृ अति प्रसन्न होते हैं। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार, यदि ये जीव भोजन ग्रहण कर लेते हैं, तो माना जाता है कि वह भोजन पितरों को प्राप्त हो गया है।

अमावस्या के अवसर पर दीप दान का विशेष महत्व होता है। तो ऐसे में इस दिन आप दीप और फूल एक पत्ते के कटोरे में रखकर जल में प्रवाहित कर दें। ऐसा करने से घर पर आने वाले संकट दूर होते हैं और सुख एवं समृद्धि के मार्ग खुलते हैं।

इसके अलावा आषाढ़ अमावस्या की सुबह पीपल के पेड़ की पूजा करें। पीपल के पेड़ में भगवान विष्णु सहित कई देव निवास करते हैं। पीपल के पेड़ की पूजा करते समय फूल, फल, जनेऊ, धूप, दीप एवं जल आदि अर्पित करें। परिवार की सुख एवं शांति के लिए प्रार्थना करें। ऐसा करने से आपकी मनोकामना जल्द पूर्ण होगी।

परिवार में सुख एवं समृद्धि के लिए अमावस्या के दिन मछलियों को आटे की गोलियां खिलाएं। इस उपाय से आपको बहुत लाभ होगा।
PunjabKesari ashada amavasya, ashada amavasya 2022, ashadha amavasya 2022 date and time, ashadha amavasya 2022 date and time in hindi, Ashad Amavasya 2022 shubh muhurat, halharini amavasya, halharini amavasya 2022 kab hai, halharini amavasya 2022
इसके अलावा अगर आपके नकारात्मक शक्तियों का प्रभाव रहता है जिसके कारण आपके घर हमेशा क्लेश का वातावरण बना रहता है तो अमावस्या पर नकारात्मक शक्तियों के प्रभाव को दूर करने के लिए एक कुत्ते को रोटी में तेल लगाकर खिलाएं। ऐसा करने से विरोधी और शत्रु दोनों का प्रभाव कम होगा।
 

Related Story

West Indies

137/10

26.0

India

225/3

36.0

India win by 119 runs (DLS Method)

RR 5.27
img title img title

Everyday news at your fingertips

Try the premium service

Subscribe Now!